July 19, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

भ्रष्टाचार रोकने का कारगर उपाय क्या है, जानिए आप भी…

Sachchi Baten

डिजिटल मुद्रा लागू कर प्रभावी भ्रष्टाचार मुक्त भारत निर्माण का मार्ग होगा प्रशस्त

 

डॉ. राजकुमार सिंह

————————–

भ्रष्टाचार सामाजिक-आर्थिक विकास के पथ पर आनेवाली महत्वपूर्ण चुनौतियों में से एक है। यह समस्या न केवल जनता के विश्वास को घातक रूप से प्रभावित करती है, बल्कि आर्थिक विकास को भी रोकती है, गरीबी उन्मूलन के प्रयासों को बाधित करती है, और सामाजिक विकास और राष्ट्र निर्माण के प्रयासों को अवरुद्ध करती है।

डिजिटल मुद्राएँ वित्तीय लेनदेन की वास्तविक समय पर निगरानी की अनुमति देती हैं। सरकारी एजेंसियां लेनदेन को ट्रैक और विश्लेषण करने के लिए स्वचालित सिस्टम स्थापित कर सकती हैं, जिससे विसंगतियों या संदिग्ध पैटर्न की पहचान करना आसान हो जाएगा। निगरानी के लिए यह सक्रिय दृष्टिकोण भ्रष्ट आचरण को रोक सकता है और अनियमितताओं का पता चलने पर त्वरित हस्तक्षेप को सक्षम कर सकता है।

अधिक प्रभावी निरीक्षण को सक्षम करने के लिए डिजिटल प्रौद्योगिकियों का भी उपयोग किया जा सकता है। डेटा एकत्र करना, विश्लेषण करना और साझा करना आसान बनाकर, डिजिटल प्रौद्योगिकियां लेखा परीक्षकों, जांचकर्ताओं और पत्रकारों को भ्रष्टाचार का पता लगाने और जांच करने में मदद कर सकती हैं। उदाहरण के लिए, सरकारें डेटा विश्लेषण उपकरण विकसित करने के लिए डिजिटल तकनीकों का उपयोग कर सकती हैं जो संदिग्ध वित्तीय गतिविधि के पैटर्न की पहचान कर सकती हैं। इससे भ्रष्ट व्यक्तियों की पहचान करने और उन्हें अपने अपराधों से बच निकलने से रोकने में मदद मिल सकती है।

डिजिटल मुद्रा की पारदर्शी प्रकृति यह सुनिश्चित करती है कि मुद्रा से संबंधित सरकारी कार्यों की जनता द्वारा जांच की जा सके। यह जवाबदेही भ्रष्टाचार के लिए निवारक के रूप में कार्य करती है, क्योंकि सरकारी अधिकारी जानते हैं कि उनके कार्यों पर नजर रखी जा रही है और यदि वे भ्रष्ट गतिविधियों में लिप्त पाए जाते हैं तो उन्हें जवाबदेह ठहराया जा सकता है।

किसी देश में डिजिटल मुद्रा लागू करना भ्रष्टाचार को नियंत्रित करने का एक शक्तिशाली उपकरण हो सकता है। इसकी पारदर्शिता, पता लगाने की क्षमता और दक्षता भ्रष्ट व्यक्तियों के लिए वित्तीय लेनदेन में हेरफेर करना मुश्किल बना देती है। डिजिटल मुद्रा के उपयोग को लागू करके, सरकारें नकद लेनदेन को रोक सकती हैं, निगरानी और लेखापरीक्षा बढ़ा सकती हैं और वित्तीय समावेशन को बढ़ावा दे सकती हैं।

हालाँकि, भ्रष्टाचार नियंत्रण के लिए डिजिटल मुद्रा के सफल कार्यान्वयन के लिए डिजिटल साक्षरता, साइबर सुरक्षा, गोपनीयता और विनियमन से संबंधित चुनौतियों का समाधान करना महत्वपूर्ण है। जब प्रभावी ढंग से उपयोग किया जाता है, तो डिजिटल मुद्रा भ्रष्टाचार से लड़ते हुए अधिक पारदर्शी और जवाबदेह समाज के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान दे सकती है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि डिजिटल प्रौद्योगिकियां वित्तीय भ्रष्टाचार को पूरी तरह से समाप्त करने का एक उपाय नहीं हैं। इनका उपयोग अन्य भ्रष्टाचार-विरोधी उपायों, जैसे कि मजबूत संस्थान, नैतिक नेतृत्व, और भ्रष्टाचार के प्रति शून्य सहिष्णुता की संस्कृति के साथ मिलाकर किया जाना चाहिए। हालांकि, डिजिटल प्रौद्योगिकियां भ्रष्ट व्यक्तियों के लिए काम करना अधिक कठिन बनाने और उन्हें जवाबदेह ठहराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं।

 

                                                           (लेखक दिल्ली टेक्निकल यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं)


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.