July 24, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

आजाद भारत के एक क्रांतिकारी के जन्मदिन पर क्या संकल्प लिया गया, आपकाे भी जानना जरूरी है

Sachchi Baten

गांधी के बाद अब उनके विचारों पर हमले की साजिशों का होगा घोर विरोध

 

तू जमाना बदल के नायक यदुनाथ सिंह के साथी हरबंश सिंह के 75वें जन्मदिन पर लिया गया संकल्प

पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर जंक्शन के पास रिक्शा स्टैंड में आयोजित जन्मोत्सव में जुटे सभी विचारधारा के लोग

वरिष्ठ नागरिक मंच चंदौली की ओर से किया गया था जन्मोत्सव का आयोजन

राजेश पटेल, पं. दीनदयाल उपाध्याय नगर मुगलसराय (सच्ची बातें)। गांधी के बाद उनके विचारों पर हमला करने वालों को मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। देश में नफरत की राजनीति फैलाने वालों की साजिशों को नाकाम करते हुए नए भारत का निर्माण करना है। यह संकल्प यहां पंडित दीनदयाल उपाध्याय नगर मुगलसराय में 15 जुलाई 2023 शनिवार को लिया गया। अवसर था आजाद भारत के सबसे बड़े क्रांतिकारी यदुनाथ सिंह के साथी हरबंश सिंह का 75वां जन्म दिवस समारोह। इसमें सभी विचारधारा तथा सभी वर्ग के लोग जुटे थे। अमीर के साथ गरीब भी। आयोजन पीडीडीयू नगर जंक्शन के पास रिक्शा स्टैंड में वरिष्ठ नागरिक मंच चंदौली द्वारा किया गया था।

हरबंश सिंह ने अपने राजनैतिक जीवन के दौरान जेल जाने का अर्धशतक लगाया है। वंचितों को न्याय दिलाने, सरकारी की तानाशाही का विरोध करने में उनके जीवन का उद्देश्य है। वह चुनार से चार बार विधायक रहे आजाद भारत के सबसे बड़े क्रांतिकारी यदुनाथ सिंह के साथी हैं। यदुनाथ सिंह 1974 तथा 1977 में  मुगलसराय विधानसभा से निर्दल चुनाव लड़ चुके हैं। दोनों बार मामूली मतों के अंतर से चुनाव हारे थे। 1974 में तो हरबंश सिंह ने एक रणनीति के तहत उस समय के देश के रक्षा मंत्री बाबू जगजीवन राम के हेलीकॉप्टर को श्मशान में उतरवा दिया था। सारा पुलिस प्रशासन व खुफिया तंत्र देखता रह गया।

ऐसे क्रांतिकारी के जन्मदिन पर यदुनाथ सिंह के साथी व पं. दीन दयाल उपाध्याय नगर पालिका परिषद के हालिया चुनाव में राजनीति की एक नई रेखा खींचने वाले शमीम अहमद मिल्की, आपात काल के दौरान देश में सबसे कम उम्र (14 वर्ष) में जेल जाने वाले रामनगर निवासी सरदार सतनाम सिंह, यदुनाथ सिंह के साथी किसान नेता चुनार के गौरही गांव निवासी बजरंगी सिंह कुशवाहा, सर्व सेवा संघ वाराणसी से रामधीरज, चंदौली के पूर्व सांसद रामकिशुन यादव, मुगलसराय के मेवालाल गुप्ता, इंद्रजीत शर्मा, कयामुद्दीन, भाजपा नेता राणा प्रताप सिंह, सहित भाजपा, कांग्रेस, समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं समेत काफी संख्या में आम लोग जुटे थे। रिक्शा चालकों को अंगवस्त्रम देकर सम्मान इस कार्यक्रम की खासियत रही।

हरबंश को दीर्घायु होने की कामना करते हुए बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र नेता चौधरी राजेंद्र ने कहा कि सर्व सेवा संघ वाराणसी पर कब्जा करने की साजिशों का हर स्तर पर विरोध होगा। जिस विचारधारा के लोगों ने गांधी की हत्या की, उसी विचारधारा के लोग आज गांधी के विचारों को भी खत्म करने की साजिश कर रहे हैं। इसे इस देश का नौजवान कभी सफल नहीं होने देगा। आज एक क्रांतिकारी का 75वां जन्म दिन है। यानि इनका भी अमृत काल चल रहा है। देश का भी। देश के प्रधानमंत्री अमेरिका जाते हैं तो वहां के पत्रकारों के सवालों का जवाब नहीं दे पाते। इससे ज्यादा दुर्भाग्य की बात और क्या होगा। ऐसे समय में देश को बचाने का संकल्प लेने का उचित अवसर इससे अच्छा कोई और हो नहीं सकता।

आपातकाल के दौरान देश में सबसे कम उम्र में जेल जाने वाले सरदार सतनाम सिंह ने यदुनाथ सिंह के साथ किए गए आंदोलनों के संबंध में संस्मरण सुनाते हुए कहा कि अभी भी  उनकी नसों में वही खून दौड़ रहा है। नफरत की राजनीति को खत्म कर एक नए भारत के निर्माण में यदि पुराने स्वरूप में उनको आना ही पड़ेगा तो निश्चित ही आएंगे। देश से बड़ा कुछ नहीं है।

पूर्व सांसद रामकिशुन यादव ने यदुनाथ सिंह टीम के सिपाही हरबंश सिंह, शमीम अहमद मिल्की, सरदार सतनाम सिंह को लेकर अपने बचपन की स्मृतियों को साझा किया। उन्होंने कहा कि पहले के दौर में वैचारिक विरोध सामान्य शिष्टाचार में कहीं भी आड़े नहीं आता था। आज वह स्थिति नहीं है। उसे फिर से प्रतिष्ठापित करने का काम हरबंश सिंह व उनके साथी ही कर सकते हैं।

हरबंश सिंह ने कहा कि यदुनाथ सिंह की टीम कहीं भी अन्याय होते नहीं देख सकती थी। अन्याय का मौके पर ही विरोध किया जाता था। कितने आंदोलन किए, कितनी बार जेल गए अब तो याद भी नहीं है। उन्होंने कहा कि सामाजिक ताना-बाना टूटना नहीं चाहिए। एक-दूसरे के प्रति आदर का भाव रखें। देश व समाज के लिए कुछ कर गुजरने की तमन्ना हर किसी में होनी चाहिए। उन्होंने सभी से अपील की कि सिर्फ एक काम करें, देश का भविष्य अच्छा होगा। सिर्फ अपने बच्चों को अच्छे संस्कार दें। उन्होंने अपने जन्मदिन को खास बनाने के लिए आने वाले लोगों के प्रति आभार जताया।

समारोह को बजरंगी सिंह कुशवाहा, तू जमाना बदल के लेखक राजेश पटेल, भाजपा नेता राणा प्रताप सिंह, कांग्रेस नेता बाबू भाई, मेवा लाल गुप्ता, कयामुद्दीन आदि ने भी संबोधित किया। अध्यक्षता शमीम अहमद मिल्की ने की। संचालन इंद्रजीत शर्मा ने। जन्मोत्सव में बाकायदा केक काटा गया और उपस्थित सैकड़ों लोगों के बीच वितरित किया गया।

 

 

 

 


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.