July 23, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

मिर्जापुर जिला को सूखाग्रस्त घोषित करने की उठने लगी मांग, सत्ता पक्ष के जनप्रतिनिधियों ने साधी चुप्पी

Sachchi Baten

सूखा के कारण जिले भर में सूख रही खरीफ की फसल

-समाजवादी पार्टी ने चुनार में एसडीएम को सौंपा पत्रक

-आम आदमी पार्टी ने जमालपुर ब्लॉक मुख्यालय पर किया प्रदर्शन, सौंपा ज्ञापन

चुनार, मिर्जापुर (सच्ची बातें)। भीषण सूखा पड़ने से मिर्जापुर जिले भर में खरीफ की फसलें सूखने लगी हैं। किसानों की तकलीफ को सत्ता पक्ष से जुड़े जनप्रतिनिधि समझ नहीं पा रहे हैं। अभी तक किसी ने सरकार को लिखकर जनपद को सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग नहीं की। इसी कारण विपक्ष अब हमलावर हो रहा है। बुधवार छह अगस्त को समाजवादी पार्टी के चुनार विधानसभा क्षेत्र के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने तहसील मुख्यालय पर एसडीएम  ननीत सेहारा को पत्रक सौंपा। आम आदमी पार्टी ने भी जमालपुर ब्लॉक मुख्यालय पर प्रदर्शन कर सरकार का ध्यान इस ओर आकृष्ट कराया।

सपा की ओर से एसडीएम को पत्रक सौंपने वालों में सुनील सिंह, हीरा सिंह पटेल, राज नारायण यादव, प्रभु नारायण मास्टर साहब, नरेंद्र यादव, विजय सिंह पटेल, निजाम भाई, शिवपूजन यादव, जितेंद्र यादव, मंजीत यादव, महिपाल सिंह,  पूर्व चेयरमैन प्रत्याशी चुनार संतोष यादव,  राजन यादव, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष मुन्ना मैनेजर, जिला पंचायत सदस्य दिलीप गुप्ता,  सूर्यकांत सिंह पटेल, परवेज आलम,  चंद्रपाल सिंह आदि शामिल थे। इनका नेतृत्व पार्टी के विधानसभा अध्यक्ष राणा प्रताप सिंह कर रहे थे। एसडीएम को दिए पत्रक में चेतावनी दी गई है कि यदि जिले को शीघ्र सूखाग्रस्त घोषित नहीं किया गया तो आंदोलन किया जाएगा।

उधर आम आदमी पार्टी की जमालपुर विकास खंड इकाई ने भी बुधवार को ब्लॉक मुख्यालय पर किसानों की समस्याओं को ही लेकर प्रदर्शन किया। इस दौरान एडीओ आइएसबी मुकेश शर्मा को ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में कहा गया है कि इस वर्ष कम बरसात होने की वजह से जिले में सूखे की गंभीर स्थिति पैदा हो गई है। जिस कारण से जिले के सारे जलाशय सूखे पड़े हैं।

मिर्जापुर जिला धान की खेती के लिए भी जाना-पहचाना जाता है। इसमें पानी की अत्यधिक आवश्यकता भी होती है।लेकिन बरसात कम होने की वजह से बहुत सारे किसान धान का बीज डालने से लेकर रोपाई हेतु खेतों की तैयारी में जुताई, मेड़बंदी आदि में हजारों हजार रुपए व्यय करने के बाद भी रोपाई नहीं कर सके। कुछ किसान अपने निजी संसाधनों के दम पर काफी धनराशि खर्च कर किसी तरह से धान की रोपाई तो कर दी, लेकिन बिजली की घोर कटौती के चलते अब उसको भी बचाना मुश्किल हो गया है।

कुल मिलाकर सभी किसान चाहे धान की रोपाई की हो या न की हो, धान की खेती के लिए काफी धनराशि व्यय कर चुके हैं। अब अगली फसल की खेती करने के लिए किसानों के पास कुछ बचा भी नहीं है। खेतों में खड़ी धान की फसल को बचाने के लिए किसानो द्वारा अपने घर परिवार के सालाना खर्चे के लिए रखी धनराशि को भी खर्च कर दिया जा रहा है। इसलिए तत्काल संपूर्ण जिले को सूखाग्रस्त घोषित कर प्रर्याप्त राहत पैकेज की घोषणा कर किसानों को जल्द से जल्द आर्थिक सहायता दी जानी चाहिए। ज्ञापन सौंपने वालों में आम आदमी पार्टी के ब्लॉक अध्यक्ष संदीप कुमार पटेल, अजीत कुमार सिंह, सलीम सूफी, नरेंद्र शर्मा, विजयी सिंह, चितरंजन सिंह, नीरज कुमार, सर्वेश कुमार, संजय, जोगीश, आनंद कुमार आजाद, चौधरी रमेश सिंह, कैलाश, विजेंद्र सिंह आदि थे।


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.