July 16, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

हकीकत : सरदार पटेल के कारण ही राष्ट्रपति बन सके थे बिहार के राजेंद्र बाबू

नेहरू बनाना चाहते थे सी. राजगोपालाचारी को राष्ट्रपति, सरदार पटेल अड़ गए डॉ. राजेंद्र प्रसाद के नाम पर

Sachchi Baten

 

मिर्जापुर, [राजेश पटेल]। आजादी के बाद देश को पहला राष्ट्रपति देने के लिए सिवान आज जो गर्व का अनुभव करता है, इसका श्रेय सरदार वल्लभ भाई पटेल को जाता है। पं. जवाहरलाल नेहरू चक्रवर्ती सी. राजगोपालाचारी को राष्ट्रपति बनवाना चाहते थे, लेकिन सरदार पटेल ने तो ठान लिया था कि जैसे भी हो, डॉ. राजेंद्र प्रसाद को ही राष्ट्रपति बनाना है।

मैं जब सिवान जनपद में दैनिक जागरण का जिला प्रभारी था तो उस समय जीरादेई निवासी बच्चा सिंह तथा जेपी सेनानी महात्मा भाई ने बताया था कि राजेंद्र बाबू को जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रपति नहीं बनाना चाहते थे। जब औपबंधिक राष्ट्रपति नियुक्त करने की बात चल रही थी, तब नेहरू ने सी. राजगोपालाचारी का नाम प्रस्तावित कर दिया था। इस प्रस्ताव का अनुमोदन खुद डॉ. राजेंद्र प्रसाद करने के लिए उठ गए थे, लेकिन सरदार पटेल द्वारा डांटकर बैठाने के बाद राजेंद्र बाबू चुप हो गए। सभा को समाप्त कर दिया गया।

इस घटना के बाद राजेंद्र बाबू अपने गांव बिहार के सिवान जनपद के जीरादेई चले गए। उधर, पटेल जी ने देश भर के सभी बड़े नेताओं का हस्ताक्षर राजेंद्र बाबू को राष्ट्रपति बनाए जाने के पक्ष में कराया। 20 दिनों तक यह काम होता रहा। फिर राजेंद्र बाबू को खोजते-खोजते दिल्ली से अनुग्रह बाबू के साथ कुछ लोग जीरादेई गए और उनको मनाकर दिल्ली ले गए। वहां पर 26 जनवरी 1950 को उन्हें औपबंधिक राष्ट्रपति बनाया गया।

महात्मा भाई ने बताया था कि उनकी माता जी भी देशरत्न के राष्ट्रपति बनने की कहानी बताती रही हैं। मां ने कहा था कि राजेंद्र बाबू को लेने के लिए दिल्ली से जो लोग आए थे, उनमें सरदार पटेल जरूर रहे होंगे। क्योंकि उस समय गांव में भी इसकी चर्चा खूब होती थी। लोग बताते थे कि जब तक सरदार पटेल लेने नहीं आएंगे, तब तक राजेंद्र बाबू दिल्ली नहीं जाएंगे।

महात्मा भाई ने बताया था कि डॉ. राजेंद्र प्रसाद को राष्ट्रपति बनने से रोकने के लिए पं. नेहरू ने झूठ तक का सहारा लिया था। नेहरू ने 10 सितंबर 1949 को डॉ. राजेंद्र प्रसाद को पत्र लिखकर कहा कि उन्होंने (नेहरू) और सरदार पटेल ने फैसला किया है कि सी. राजगोपालाचारी को भारत का पहला राष्ट्रपति बनाना सबसे बेहतर होगा।

नेहरू ने जिस तरह से यह पत्र लिखा था, उससे डॉ. राजेंद्र प्रसाद को घोर कष्ट हुआ और उन्होंने पत्र की एक प्रति सरदार पटेल को भिजवाई।  वे उस वक्त मुंबई में थे। कहते हैं कि सरदार पटेल उस पत्र को पढ़ कर सन्न थे, क्योंकि उनकी इस बारे में नेहरू से कोई चर्चा ही नहीं हुई थी।

इसके बाद डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने 11 सितंबर 1949 को नेहरू को पत्र लिखा, जिसमें उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा था कि पार्टी में उनकी जो स्थिति रही है, उसे देखते हुए वे बेहतर व्यवहार के पात्र हैं। नेहरू को जब यह पत्र मिला तो उन्हें लगा कि उनका झूठ पकड़ा गया। अपनी फजीहत कराने के बदले उन्होंने अपनी गलती स्वीकार करने का निर्णय लिया।

जामापुर निवासी अति बुजुर्ग बांके बिहारी सिंह ने बताया था कि उन्होंने राजेंद्र  बाबू के राष्ट्रपति बनने के घटनाक्रम को अपनी डायरी में दर्ज किया है। डायरी के पन्नों को पलटते हुए उन्होंने बताया था कि सरदार पटेल ने पं. नेहरू को खुली चुनौती दी थी कि कार्यसमिति की बैठक में प्रस्ताव रखा जाए, जिसके पक्ष में ज्यादा समर्थक होंगे, उसे राष्ट्रपति बनाया जाएगा। नेहरू जानते थे कि कार्यसमिति के तीन चौथाई सदस्य डॉ. राजेंद्र प्रसाद के पक्ष में हैं तो उन्होंने चुप रहने में ही अपनी भलाई समझी। इस तरह से अप्रतिम मेधा के धनी डॉ. राजेंद्र प्रसाद का राष्ट्रपति के लिए मार्ग प्रशस्त हुआ।


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.