July 23, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

डिजिटल युग में शिक्षा कैसी हो, पढ़ें निरंजन सिन्हा के विचार How should education be in the digital time, read Niranjan Sinha’s thoughts

 यह सामाजिक विमर्श का ज्वलंत मुद्दा होना चाहिए|

Sachchi Baten

डिजिटल युग में शिक्षा कैसी हो, पढ़ें निरंजन सिन्हा के विचार How should education be in the digital time, read Niranjan Sinha’s thoughts

किसी भी समाज या संस्कृति की शिक्षा कैसी हो? या कैसी होनी चाहिए? यह सब उस समाज या संस्कृति की वर्तमान स्थिति एवं अवस्था पर निर्भर करता है| किसी भी समाज की संस्कृति उस समाज की मानसिक गत्यात्मकता की स्थिति एवं अवस्था को स्पष्ट करती है| यदि कोई समाज आस्था को प्राथमिकता देता है और यदि कोई समाज ‘सवाल पूछने’ को यानि विज्ञान को प्राथमिकता देता है, तो यह स्पष्ट हो जाना चाहिए कि  दोनों समाज की शिक्षा की प्राथमिकताएँ अलग अलग होगी|

शिक्षा का महत्त्व तो सबको स्पष्ट है कि शिक्षा ने ही ‘होमो सेपिएन्स’ (Homo Sapiens – Modern Man) को ‘होमो सोशिअस’ (Homo Socius – Social Man) और ‘होमो फेबर’ (Homo Faber – Maker Man) बनाया है| लेकिन कुछ लोग साक्षरता को ही शिक्षा मान बैठते हैं, और शिक्षा को सही ढंग से समझने में चूक जाते हैं| किसी भी विषय को किसी भी भाषा एवं लिपि में पढ़ना, लिखना और उसे समझना ही साक्षरता है| लेकिन शिक्षा बुद्धि के विकास एवं संवर्धन से सम्बन्धित है| इसीलिए ‘रट्टू ज्ञान’ (Rote Learning) से कोई डिग्रीधारी हो सकता है, और उस आधार पर सरकारी या निजी नौकरी पा सकता है, परन्तु वह शिक्षित नहीं माना जा सकता है|

शिक्षा की उच्चतर अवस्था ही बुद्धि कहलाती है, और इसीलिए भारत में विशिष्ट एवं उत्कृष्ट स्तर के ज्ञानी को “बुद्ध” कहा जाता रहा| ध्यान रहे कि ‘बुद्ध’ बुद्धि की इसी अवस्था की एक भारतीय परम्परा रही और गोतम बुद्ध इस परम्परा में 22वें बुद्ध हुए| इसीलिए शिक्षा में कल्पनाशीलता को प्रमुख स्थान दिया गया| महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइन्स्टीन और  स्टीफन हाकिन्स ने ज्ञान अर्जन में कल्पनाशीलता को प्रमुख स्थान दिया| वर्तमान भारत में बुद्ध और बुद्धि के एक महान अनुयायी डा0 भीमराव आम्बेडकर ने भी नारा दिया – Educate, Agitate, Organise यानि शिक्षित बनों, उसका मनन – मंथन करो, और उसे आवश्यकतानुसार व्यवस्थित करों| परन्तु राजनीतिक लाभ लेने वालों ने ‘बुद्धि’ के उस तपस्वी के मंत्र को ही बदल दिया और भावार्थ बदलते हुए ‘Struggle’ शब्द से प्रतिस्थापित कर दिया| इतना ही नहीं, शब्दों के क्रम को भी बदल दिया| अब आप भी समझ रहे होंगे कि इतनी महत्व की शिक्षा के मूल को कैसे सजिशतन बदल दिया जाता है|

तो शिक्षा क्या है? सफलता प्राप्त करने हेतु अनुकूलनता (Adoptability) सीखना ही शिक्षा है| शिक्षा की इसी विशेषता से यह साक्षरता से भिन्न हो जाता है| इसीलिए शिक्षा में तर्कशीलता (Logic/ Reasonableness), विवेकशीलता (Rationality) और मानवता (Humanity) अनिवार्य तत्व हो जाता है| आलोचनात्मक चिन्तन यानि Critical Thinking इसीलिए शिक्षा का मूलाधार है| इसी से “Out of Box” के विचार की उत्पत्ति एवं विकास हो पाता है| इसी से “सवाल” खड़ा किया जाता है, और इसलिए स्टीफन हाकिन्स “सवाल” खड़ा करने को ही बुद्धि यानि विज्ञान के विकास का आधार मानते हैं| बुद्धि के लिए आलोचनात्मक चिन्तन बहुत जरुरी है|

आलोचनात्मक चिन्तन यानि Critical Thinking में विषय और प्रश्न का Analyse (विश्लेषण) करना, उसका सन्दर्भ में Evaluate (मूल्यांकन) करना, फिर उसको Integrate (समेकन) करना होता है| फिर इसे सामान्यीकृत करने के लिए Open (खोलना यानि विस्तार) करना एवं समय एवं परिस्थिति के Unite करना होता है| ध्यान दें कि मैंने यहाँ पांचो Vovel (A, E, I, O, एवं U) के क्रम में Critical Thinking को समझाने का प्रयास किया है| दुसरे शब्दों में कहें, तो आलोचनात्मक चिन्तन के लिए किसी को भी ‘इतिहास’, ‘दर्शन’, ‘मनोविज्ञान’ और ‘साहित्य’ की समझ होनी चाहिए| इसी आलोचनात्मक चिन्तन की क्षमता की जांच के लिए लगभग सभी सेवा चयन आयोगों में “निबंध” (Essay) पूछे जाने लगे हैं| अत: ऐसे सभी अभ्यर्थियों को यह सब समझना चाहिए| इसीलिए विक्टर ह्यूगो ने कहा है कि “विचारो” की शक्ति दुनिया की सभी सैन्य शक्तियों से भी ज्यादा शक्तिशाली होती है| इसी कारण वैश्विक जगत में आजकल ‘साफ्ट पावर’ (Soft Power) का उपयोग और प्रचलन बढ़ गया है, जिसे अभी भी भारत जैसे देश में अपेक्षित तरीके से नहीं समझा जा रहा है|

हमारे विश्वविद्यालयों के विद्वान प्रोफ़ेसर ज्ञान के संवर्धन के लिए अभी भी “सन्दर्भ ग्रंथों” की अनिवार्यता से ऊपर नहीं उठ सके है| यह भारत का दुर्भाग्य है| इन विद्वानों की यदि वैश्विक पूछ होती, तो ये तथागत बुद्ध से भी उनके सामाजिक विज्ञान एवं विज्ञान के लिए उनसे सन्दर्भ ग्रन्थ मांगते, ये अल्बर्ट आइन्स्टीन से भी उनके Dilation of Time (समय के पसर जाने) सिद्धांत के सन्दर्भ ग्रन्थ मांगते| इनकी दृष्टि तर्क पर आधारित वैज्ञानिक परिकल्पना (Hypothesis) की प्रक्रिया पर नहीं जाती है, और इसिलिए भारत में कोई मौलिक अनुसन्धान नहीं हो रहे हैं| प्रसिद्ध वैज्ञानिक दार्शनिक थामस सैम्युल कुहन ने 1962 में अपनी पुस्तक – “The Structure of Scientific Revolution” में पैरेड़ाईम शिफ्ट (Paradigm Shift) की अवधारणा को विस्तार दिया| यह अवधारणा किसी भी क्षेत्र में क्रान्ति के लिए अनिवार्य है| अल्बर्ट आइन्स्टीन ने कहा है कि – किसी भी समस्या का समाधान चेतना के उसी स्तर पर रहकर नहीं किया जा सकता है, जिस स्तर पर वह समस्या उत्पन्न हुई है|

आज समाज के सामान्य वर्गों में शिक्षा के क्षेत्र में सिर्फ अर्थव्यवस्था के प्राथमिक (Primary) प्रक्षेत्र, द्वितीयक (Secondary) प्रक्षेत्र एवं तृतीयक (Tertiary) प्रक्षेत्र तक ही सीमित है, अर्थात मोटे तौर पर कृषि सम्बन्धित, उद्योग सम्बन्धित और सेवा क्षेत्र सम्बन्धित तक ही सीमित है| यह सामान्य वर्ग अर्थव्यवस्था के चौथे प्रक्षेत्र और पांचवे प्रक्षेत्र को ध्यान में ही नहीं लाता है, और इसीलिए इसके लिए तैयार भी नहीं हो रहा है| चौथा प्रक्षेत्र (Quaternary Sector) ज्ञान क्षेत्र है और पांचवां प्रक्षेत्र (Quinary Sector) नीति निर्धारण है|

शिक्षा प्राप्त करने के दो महत्वपूर्ण स्रोत है – दुसरे से और स्वयं से| दुसरे से शिक्षा प्राप्त करना सामान्य स्रोत है, जैसे किसी शिक्षक से, पुस्तक से या किसी टेक्स्ट, दृश्य, या श्रवण या अन्य स्रोत से| परन्तु ‘स्वयं’ से प्राप्त करना सबसे महत्वपूर्ण है| इस विधि में ज्ञान अनन्त प्रज्ञा से पाया जाता है, जिसे आभास या अंतर्ज्ञान (Intuition) भी कहते हैं| यह कल्पनाशीलता से आता है, और इसी के लिए आलोचना चिंतन की जरुरत होती है|

शिक्षा यदि बुद्धि है, यानि बुद्धिमत्ता (Intelligence) है, तो हमें ‘सामान्य बुद्धिमत्ता’(General Intelligence – परम्परागत)के अलावे अन्य बुद्धिमत्ता पर भी ध्यान देना होगा| सामान्य बुद्धिमत्ता सामान्यत: रट लेने से भी आ जाता मान लिया जाता है| ‘भावनात्मक बुद्धिमत्ता’ (Emotional Intelligence – डेनियल गोलमैन द्वारा) में हमें सामने वाले की भावना को समझते हुए अपनी भावना को उसके अनुकूलन करना होता है, और आजकल किसी भी सफलता का प्रमुख आधार माना जाता है| यदि हम विचार और व्यवहार में वर्तमान समाज का ध्यान रख कर अपने विचार एवं व्यवहार को अनुकूलित करते हैं, तो इसे ‘सामाजिक बुद्धिमत्ता’ (Social Intelligence – कार्ल अल्ब्रेच द्वारा) कहा जाता है| परन्तु जब हम अपने विचार एवं व्यवहार में को ‘मानवता’ एवं ‘भविष्य’ को सन्दर्भ में रख कर अपने विचार एवं व्यवहार को अनुकूलित करते हैं, तो उसे ‘बौद्धिक बुद्धिमत्ता’ (Wisdom Intelligence – तथागत बुद्ध द्वारा) कहा जाता है| हमें अपने शिक्षण में इन सबों का ध्यान रखना है|

आज यदि शिक्षा को आधुनिक बनाना है और अग्रणी देशों के समतुल्य ले जाना है, शिक्षा में चार्ल्स डार्विन का ‘उद्विकासवाद’, सिगमण्ड फ्रायड का ‘आत्मवाद’कार्ल मार्क्स का ‘आर्थिकवाद’अल्बर्ट आइन्स्टीन का ‘सापेक्षवाद’ और फर्डीनांड डी सौसुरे का ‘संरचनावाद’ को अवश्य समझना होगा| ‘उद्विकासवाद’ यह समझाता है कि कोई भी स्थिति या संरचना सदैव’ सरलतम से जटिलतर की ओर जाता है| ‘आत्मवाद’ किसी चेतना यानि उसके स्वयं को ‘इड’ ‘ईगो’ एवं ‘सुपर इगो’ के सन्दर्भ में समझाता है| ‘आर्थिकवाद’ किसी भी सामाजिक रूपान्तरण को यानि ऐतिहासिक प्रक्रिया को आर्थिक शक्तियों यानि उत्पादन, वितरण, विनिमय एवं उपभोग की शक्तियों एवं उसके साधनों के अंतर्संबंधों के आधार पर समझाता है|  ‘सापेक्षवाद’ किसी भी विषय या प्रसंग या घटना को किसी भी सन्दर्भ एवं पृष्टभूमि के सन्दर्भ में समझाता है, अर्थात बदलते सन्दर्भ एवं पृष्ठभूमि में सबकुछ बदल जाता है| ‘संरचनावाद’ किसी की अभिव्यक्ति को साधारण, विशिष्ट एवं निहित अर्थों में समझाता है|

आज के डिजीटल युग में कम्प्यूटर कोडिंग सहित कम्प्यूटर शिक्षा महत्वपूर्ण हो गया है| डिजीटल धोखाधड़ी को समझना और उससे सम्बन्धी सावधानियां समझना भी महत्वपूर्ण है| वैश्विक भाषा अंग्रेजी के ज्ञान के साथ में कोई भी बहुत कुछ पा सकता है, अन्यथा इसके बिना सबकुछ रहते हुए भी अज्ञात में खोया रहना पड़ता है|

हमारी मानसिक और आध्यात्मिक क्षमता भी हमारे शारीर में ही निवास करती है, और इस शरीर के बाहर कोई चेतना और ज्ञान कार्य नहीं करता है| इसलिए शारीरिक. मानसिक एवं आध्यात्मिक स्वास्थ्य भी बहुत जरुरी है, और इसीलिए इससे सम्बन्धित जागरूकता एवं जानकारी बहुत महत्वपूर्ण है| आजकल यह भी एक फैशन बन गया है कि पहले स्वास्थ्य में विकृति लाओ और फिर उसे ठीक करने के लिए सार्वजनिक उपाय करों|

अंत में, उपयुक्त ‘उद्यमिता’ (Entrepreneurship) के शिक्षण एवं प्रशिक्षण के अभाव  में आज युवा वर्ग भटक रहा है| जिसने जीवन में कभी उद्यमिता नहीं किया है, वह सरकारी संस्थानों में उद्यमिता सिखा रहे हैं, मतलब जीवन भर नौकर बने रहने वाले लोग दूसरों को मालिक बनने की शिक्षण प्रशिक्षण दे रहे हैं| भारत में ‘वित्तीय साक्षरता’ (Financial Literacy) की महत्ता वैश्विक संगठन – “आर्थिक सहयोग और विकास संगठन” (O E C D) के गहराई से रेखांकन करने के बाद समझ में आयी, लेकिन अभी तक कोई सार्थक प्रयास नहीं दिखता है और इसीलिए अपेक्षित परिणाम भी नहीं है| प्रशासन में भ्रष्टाचार उन्मूलन के लिए ‘सामाजिक अंकेक्षण’ (Social Audit) अनिवार्य है, परन्तु इसकी प्रभावी परिणाम आने के लिए कोई व्यवस्था नहीं किया गया है| समृद्ध देशों यह कई रूपों में व्यवस्थित है और इसीलिए प्रभावशाली भी है|

मैं समझता हूँ कि शिक्षा के सम्यक विकास के लिए उपरोक्त विषय को समझा जाना चाहिए, और समाज के विस्तृत दायरे में लाना चाहिए| आज के डिजीटल युग में सिर्फ सरकार के भरोसे भी नहीं रहना चाहिए| आज कोई भी सामाजिक संगठन कमतर संसाधन के बावजूद इसे व्यवस्थित ढंग से प्रचारित एवं प्रसारित कर सकता है| कई संगठन प्रयास भी कर रहे हैं, परन्तु व्यवस्थित प्रयास किया जाना अपेक्षित है| यह सामाजिक विमर्श का ज्वलंत मुद्दा होना चाहिए| 

आचार्य निरंजन सिन्हा|

 मेरे अन्य आलेख www.niranjansinha.com पर देख सकते हैं।


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.