July 24, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

स्वामी प्रसाद मौर्य को सपरिवार गिरफ्तार करने का आदेश, जानिए क्यों?

Sachchi Baten

लखनऊ की एमपी-एमएलए कोर्ट जारी किया गिरफ्तारी वारंट

 

लखनऊ (सच्ची बातें)। राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी के अध्यक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य, उनकी सांसद बेटी संघमित्रा मौर्य समेत पांच लोगों के खिलाफ लखनऊ की एमपी-एमएलए कोर्ट ने गिरफ़्तारी वारंट जारी किया है।

लखनऊ के सुशांत गोल्‍फ सिटी के रहने वाले दीपक कुमार स्‍वर्णकार नाम के एक शख्‍स ने एमपी एमएलए कोर्ट में स्‍वामी प्रसाद मौर्या, उनकी बेटी संघमित्रा मौर्या, उनकी पत्‍नी शिवा मौर्या, बेटे उत्‍कृष्‍ट मौर्या, नीरज तिवारी, सूर्य प्रकाश शुक्‍ल और रितिक सिंह के खिलाफ परिवाद दाखिल किया था। दीपक कुमार का दावा है कि साल 2016 से वह संघमित्रा के साथ लिव-इन-रिलेशन में रह रहा था।

दीपक कुमार ने स्‍वामी प्रसाद मौर्या, उनकी बेटी संघमित्रा पर बिना तलाक लिए धोखाधड़ी करके दूसरी शादी करने का आरोप लगाया है। इस संबंध में पारिवारिक वाद दायर किया है।

स्वामी प्रसाद मौर्य एक तरफ जहां समाजवादी पार्टी से दूरी बनाने और खुद की पार्टी से चुनाव को लेकर चर्चा में थे, अब वह संकट में पड़ गए है।

यह है मामला

संघमित्रा मौर्य पर बिना तलाक लिए धोखे से दीपक स्वर्णकार से शादी का आरोप है। मामले में कोर्ट में हाज़िर न होने पर एमपी-एमएलए कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। वादी दीपक के मुताबिक वो और संघमित्रा मौर्या 2016 से लिवइन रिलेशन में रह रहे थे। वादी के मुताबिक संघमित्रा और स्वामी प्रसाद ने बताया कि संघमित्रा का पूर्व की शादी में तलाक हो गया है। लिहाज़ा 3 जनवरी 2019 को दीपक ने संघमित्रा के घर पर उनसे शादी कर ली। जबकि 2019 के चुनाव में शपथ पत्र देकर संघमित्रा ने खुद को अविवाहित बताया था।

वादी के मुताबिक संघमित्रा का तलाक मई 2021 में हुआ था। वादी का आरोप है कि जब 2021 में उसने विधि विधान से शादी का प्रस्ताव रखा तो उसके ऊपर जानलेवा हमला किया गया। अब इस मामले में अगली सुनवाई 16 अप्रैल को होगी।


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.