July 23, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

जयंती विशेषः आजादी के लिए सेवा व बलिदान को महत्व देते थे नेताजी

Sachchi Baten

स्याही उड़ रही है नेताजी के लिखे संदेश की

-प. बंगाल के सिलीगुड़ी में महाश्वेता देवी को उनकी मौसी अनिता बोस ने सौंपी है यह धरोहर

-1938 में मिलने रंगून गईं अनिता बोस को नेताजी ने दिया था ऑटोग्राफ, उस लगी फोटो अनिता ने ही ली थी उसी दिन

राजेश पटेल, मिर्जापुर (सच्ची बातें)।  नेता जी सुभाष चंद्र बोस का नाम आते ही उनका नारा बरबस ही जुबान पर आ जाता है, ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हे आजादी दूंगा।’ लेकिन इससे हटकर भी उनका एक नारा था, ‘सेवा व बलिदान के बिना आजादी संभव नहीं’। उन्होंने यह वाक्य 1938 में प्रसिद्ध वैज्ञानिक जगदीश चंद्र बसु के परिवार की महिला अनिता बोस को दिए एक ऑॅटोग्राफ में लिखा है। ऑटोग्राफ पर उसी दिन खींची गई नेताजी की फोटो भी है।

नेताजी सुभाषचंद्र बोस का ऑटोग्राफ
                                  नेताजी सुभाषचंद्र बोस का संदेश

 

नेता जी ने बांंग्ला में लिखा है, ‘सेवा वो त्यैग व्यतित साधीनता पाबो ना।’ प. बंगाल के सिलीगुड़ी में मल्लागाड़ी इलाके में एक नामी होटल के पास टूटे-फूटे लकड़ी के घर को देखकर कोई कह ही नहीं सकता कि इसके अंदर संदूक में सहेज कर नेताजी की हैंडराइटिंग में उनका इतना बड़ा संदेश सहेज कर रखा होगा।

मैं 2018 में इस घर में गया था, जहां नेताजी का संदेश सहेज कर रखा गया है। लकड़ी की ही सीढ़ी चढ़कर प्रथम तल पर कमरे में प्रवेश करने पर वृद्ध महाश्वेता जी मिलीं। उनसे जब कहा गया तो उन्होंने संदूक से निकालकर शीशे में मढ़े हुए इस ऑॅटोग्राफ को निकाला और आंचल के पल्लू से पोंछते हुए माथे पर लगाया। फिर देखने को दिया।

महाश्वेता दीदी ने बताया कि अनीता बोस उनकी मौसी थीं। बेटी की ही तरह मानती थीं। 1993 में देहांंत के पहले उन्होंने यह थाती उनको सौंपी थी। कहा था कि इसे संभाल कर रखना। न संभाल सकना तो इसे नीलाम कराके इससे मिलने वाली राशि को गरीबों के कल्याण में लगाना, तभी नेताजी का यह उद्देश्य पूरा हो सकेगा।

बोलीं कि अभी तक तो संभाल कर रखी हूं, जब लगेगा कि अब अंत समय आने वाला है, तब इसको नीलाम करूंगी। इसके लिए पश्चिम बंगाल सरकार से बात की जाएगी। जब इस अनमोल धरोहर की नीलामी की बात होगी तो लोग बढ़-चढ़कर सामने आएंगे ही। देश में नेताजी के कद्रदानों की कमी नहीं है।

महाश्वेता जी ने बताया कि विख्यात वैज्ञानिक जगदीश चंद्र बसु के पिता भगवान चंद्र बसु थे। भगवान चंद्र बसु के भाई बैरिस्टर ईश्वर चंद्र जी थे। ईश्वर चंद्र जी मेरे नाना थे। इनकी दो बेटियां थीं, एक मेरी मांं ममता महल नाविस बोस तथा दूसरी अनिता बोस। अनिता बोस आजादी की लड़ाई में नेता जी के साथ गुप्त रूप से रहते हुए संगठन के लिए काम करती थीं।

इसी सिलसिले में वे 1938 में रंगून गई थीं। उसी समय नेता जी की फोटो खींची और उस पर ऑटोग्राफ लिया था, जिसपर नेता जी ने यह लिखा, जिसके बारे में आज तक सभी अनजान ही हैं। नेताजी मौसी से इतने प्रभावित थे कि उन्होंने कहा था कि उनको यदि बेटी पैदा होगी तो उसका नाम अनिता बोस ही रखेंगे।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने सिर्फ ‘तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आजादी दूंगा’ हीं नहीं कहा, आजादी के लिए सेवा व बलिदान को भी बताया था जरूरी-नेताजी ने अपनी फोटो पर इस वाक्य को लिखा है अपने हाथ से, नीचे किया है हस्ताक्षर।


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.