July 20, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

जमीन पर कब्जा मामलों में सरकार की सख्ती थाने आते ही फुस्स

Sachchi Baten

बनारस, कानपुर के बाद अब अमेठी के कमरौली थाना की पुलिस सवालों के घेरे में

विवादित जमीन पर दीवार खड़ी करने का पूरा समय एक पक्ष को देने का आरोप

पीड़ित ने 17 जून को थाना समाधान दिवस पर आवेदन देकर लगाई न्याय की गुहार

कमरौली/अमेठी (सच्ची बातें) । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा जीरो टोलरेंस के लिए की जा रही सारी कार्रवाई थाने में पहुंचते ही फुस्स हो जाती है। बनारस के भेलूपुर व कानपुर देहात के भोगिनीपुर थाने के एसएचओ व उनकी टीम ने किया किया, किसी से छिपा नहीं है। अपनी साख बचाने के लिए सरकार ने बनारस के सात पुलिसकर्मियों को बर्खास्त तक कर दिया। कानपुर देहात मामले में सभी गिरफ्तार हैं।

                                 विवादित जमीन पर दीवार खड़ी करते 

ताजा मामला अमेठी के कमरौली थाना का है। ग्राम पूरे शोभई के कठोरा मजरे के निवासी सत्यनारायण गुप्ता ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं। सत्यनारायण को न्याय दिलाने के लिए जगदीशपुर के विधायक सुरेश पासी के साथ कथित तौर पर रहने वाले प्रदीप दीक्षित की थानाध्यक्ष से हुई बातचीत का ऑडियो भी वायरल हो रहा है। हालांकि सच्ची बातें डॉट कॉम इस वायरल ऑडियो की सच्चाई की पुष्टि नहीं करता है। सुनिए…

 

सत्यनारायण गुप्ता का कहना है कि बुधवार को सुबह 8:00 बजे गांव के ही दरगाही, बेचू खां, लक्ष्मी गुप्ता, दीपक गुप्ता, प्रिया गुप्ता, मारूफ, चांद बाबू आदि लोग मिलकर उनकी वसीयत की जमीन पर दीवार उठा रहे थे। इस भूमि का न्यायालय में मुकदमा चल रहा है। पीड़ित सत्यनारायण गुप्ता ने 17 जून शनिवार को थाना समाधान दिवस में प्रार्थना पत्र देकर न्याय लगाई है।

दीवार बनाने से रोकने के लिए 112 नंबर डायल कर पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पहुंची। पुलिस ने काम को रोकवा दिया। और दोनों पक्षों को थाने लेकर आई । सत्यनारायण गुप्ता व उनके पुत्र को थाने में बैठा लिया गया। दूसरे पक्ष को जाने के लिए कह दिया गया। दूसरे पक्ष ने मौके पर जाकर पुनः विवादित जमीन पर निर्माण कार्य चालू कर 6 फीट ऊंची दीवार उठा ली।

सत्यनारायण का आरोप है कि थानाध्यक्ष से कार्य रोकने का निवेदन करता रहा, मगर कोई कदम नहीं उठाया गया। उल्टे एकतरफा कार्रवाई करते हुए 151 में मेरा व मेरे पुत्र का चालान कर दिया गया। सत्यनारायण गुप्ता का कहना है कि उनके पास उपरोक्त भूमि का रजिस्टर्ड वसीयत है।

बहरहाल सत्यनारायण के आरोप जांच के विषय हैं। लेकिन कथित रूप से थानाध्यक्ष द्वारा फोन पर जो बात सत्यनारायण गुप्ता से की गई, उसका ऑडियो वायरल हो गया। वही पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाने के लिए काफी हैं। पीड़ित सत्यनारायण ने न्याय की गुहार लगाई है।


अपील- स्वच्छ, सकारात्मक व सरोकार वाली पत्रकारिता के लिए आपसे सहयोग की अपेक्षा है। आप गूगल पे या फोन पे के माध्यम से 9471500080 पर स्वेच्छा से सहयोग राशि भेज सकते हैं। 

 


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.