July 24, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

चौपालों का चहेताः आवाज सुनाई देती रहेगी ‘साहित्य भूषण’ हरी भइया की…

Sachchi Baten

कला-संस्कृति व साहित्य में गहरी रुचि थी श्रद्धेय हरिराम द्विवेदी जी की

-शेरवां गांव के मूल निवासी थे हरि भइया, उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान ने 2005 में सम्मानित किया ‘साहित्य भूषण’ से

-आकाशवाणी द्वारा उनके निर्देशन में आयोजित कार्यक्रम कृषि निष्ठा को लोग आज भी नहीं भूले

-स्टूडियो से बाहर निकालकर खेत-खलिहानों में आकाशवाणी को पहुंचाया था हरी भइया ने

राजेश कुमार दुबे, शेरवां/जमालपुर (सच्ची बातें)। हरि भइया की पहचान सिर्फ उनकी आवाज नहीं थी। उनकी पहचान मृदुभाषी, व्यवहार कुशल विद्वान के रूप में भी थी। शेरवां गांव में जन्मे हरिराम द्विवेदी की कला-संस्कृति व साहित्य में गहरी रुचि थी। आकाशवाणी को स्टूडियो से बाहर निकालकर गांवों-खेतों में ले जाने की सोच हरि भइया की ही थी। शेरवां में उनके निर्देशन में आयोजित कृषि निष्ठा कार्यक्रम को लोग आज भी याद करते हैं।

आइए जानते हैं हरी भइया के बारे में

विन्ध्य पर्वत शृंखला की गोद मे बसे शेरवां गांव में साधारण ब्राह्मण शुकदेव के आंगन में खिले गुलाब की सुगंध से पूर्वांचल ही नहीं, देश विदेश गमक उठा था। जहां एक ओर हिन्दी साहित्य भोजपुरी पतझड़ के दौर से गुजर रहा था तो हरिराम द्विवेदी ने पलास के लाल फूल की तरह लोक साहित्य परम्परा को आगे बढाने का कार्य किया।

हिन्दी साहित्य के जरिए क्षेत्र का पताका पूरे देश में फैलाया। शेरवां गांव के पंडित शुकदेव द्विवेदी के आंगन में तीसरे पुत्र के रूप में 12 मार्च 1936 को जन्म लेने वाले हरिराम द्विवेदी को वर्ष 2005 में  उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान का साहित्य भूषण सम्मान से भी नवाजा गया था।

इनकी प्राथमिक शिक्षा गांव के प्राइमरी स्कूल व जूनियर हाईस्कूल चौकिया, हाईस्कूल की परीक्षा कमच्छा वाराणसी, इण्टरमीडिएट पीडीएनडी इण्टरमीडिएट कॉलेज चुनार, बीए काशी हिन्दू विश्वविद्यालय वाराणसी, एमए काशी विद्यापीठ व बीएड काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से किया था

लोक संगीत में रुचि रखने वाले हरिराम द्विवेदी सन 1958 में आकाशवाणी इलाहाबाद में ग्रामीण कार्यक्रम कृषि जगत में प्रवेश कर हरि भइया के नाम से विख्यात हुए थे। सन् 1967 से 72 तक आकाशवाणी रामपुर व गोरखपुर में सेवा की।

फिर आकाशवाणी वाराणसी में रेडियो कलाकार के रूप में सन् 1976 में आ गए। लगभग तीस वर्षों तक आकाशवाणी की प्रसारण सेवा में संबंध रखने के बाद मार्च 1994 में सेवानिवृत्त हो गए।सेवानिवृत्ति के बाद वाराणसी स्थित अजमतगढ़ पैलेस मोतीझील में रह कर जीवन यापन कर रहे थे।

इनकी दो पुत्रियां व दो पुत्र हैं। हरिराम द्विवेदी हरि भइया साहित्यिक सांस्कृतिक एवं कलात्मक लेखन में अभिरुचि रखते थे। साथ ही हिन्दी एवं लोक भाषा भोजपुरी के स्थापित कवियों में प्रतिष्ठित थे। हरि भइया को उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान से राहुल सांकृत्यान पुरस्कार 1983 के लिए सम्मानित किया गया था। हिन्दी साहित्य सारस्वत सम्मान, लोकपुरुष सम्मान, साहित्य अकादमी के भाषा सम्मान, 2015 में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से डिस्टिंगविस एल्यूमनस अवार्ड, विश्व भोजपुरी संघ द्वारा पुरबिया गौरव सम्मान, वर्ष 2011 में विश्व भोजपुरी सम्मेलन द्वारा भोजपुरी का सर्वोच्च सेतु सम्मान सहित अनेक सम्मान से नवाजे गए थे। हरि भइया के बेटे राजेश द्विवेदी, अरुण द्विवेदी ने बताया कि पिता जी को पद्मश्री व पद्मविभूषण सम्मान के लिए पत्रावली शासन स्तर पर तैयार हो रही थी, उनका सपना अधूरा रह गया है।

बता दें कि हरि भइया की एक दर्जन से अधिक कुल चौदह हिन्दी व भोजपुरी गीतों का हिन्दी बाल साहित्य कृतियां प्रकाशित हो चुकी हैं। इसमें नदिया गइल दुबराय, अंगनइया, जीवन दायिनी गंगा, पानी कहै कहानी, हाशिए का दर्द, पातारी वीर, फुलवारी, रमता जोगी, बैन फकीरा, लोकगीत का दोहावली, हे देखा हो, हिन्दी गजलों देशभक्ति का संग्रह में परिवेश विविधा सहित विविध विषयों पर लिखी रचनाओं का संग्रह है।

हरि भइया शेरवां से लगायत बनारस में काशी के शाश्वत साहित्यिक परम्परा के लोकमन कवि थे। हरि भइया को दो दशक पूर्व आकाशवाणी पोर्ट ब्लेयर के बुलाने पर अंडमान निकोबार सहित कलकत्ता बंदरगाह पर भी अपनी कविता की छवि को वहां के जनमानस तक पहुंचाया है।लोकगीत की हर विधा कजरी, सोहर, खेलवना, लोरी, झूमर, सहरवा, लाचारी, चइता, फाग गीतों पर मजबूत पकड़ रखते थे। हरि भइया के गीत शादी विवाह मे जब मां बहने गातीं है कि बसवा से ए बेटी डोलवा फनाला होई जाला घर सुनसान, बिटिया के बाबा से पूछा न कइसन मड़वा क बिहान इन गीतों को सुनकर आखों में आंसू आ जाते हैं। भोजपुरी फिल्म बार्डर में भी इनके गीत काफी लोकप्रिय हुए हैं। बाबू हो शुगनवा दे द,  माई हो ललनवा दे द, बहिनी हो बिरनवा दे द, देशवा की खातिर अपनी गोदी क ललनवा दे द… जैसे देश भक्ति गीतों से भरा गीत हरिराम ने गाया है।

हरी भइया लंबे समय तक आकाशवाणी के कृषि जगत कार्यक्रम के मुख्य वक्ता थे। उन्होंने ही कृषि निष्ठा की स्थापना की थी। इसके अध्यक्ष मझगांवा गांव के बृजमोहन सिंह थे। कृषि निष्ठा के द्वारा शेरवां की धरती पर आकाशवाणी द्वारा कवि सम्मेलन व भोजपुरी गीतों का आयोजन किया गया था। मझगांवा में ग्रामीण संस्कृति के माध्यम से किसानों के बीच में विशेष जानकारी दी गई थी। इस कार्यक्रम में  ग्रामीण कवियों को सम्मानित भी कराया। इनमें भोजपुरी के कवि रामजियावन दास बावला, चंद्रशेखर मिश्र, नारायण मिश्र, पं. रामदेव दुबे, पद्मश्री प्राप्त शारदा सिन्हा जैसे वरिष्ठ कवियों व गायक गायिकाओं को बुलाया गया था। सभी को सम्मानित किया गया था। उक्त कार्यक्रम के आयोजक दुग्ध संघ वाराणसी के तत्कालीन अध्यक्ष नवल किशोर सिंह थे। क्षेत्र के किसानों द्वारा बताया गया कि ग्रामीण अंचल में ऐसा कार्यक्रम पहली देखने को मिला। पंडित हरी राम द्विवेदी सिद्ध समाज इंटर कॉलेज नंदगांव शेरवां में प्रबंध कार्यकारिणी के वरिष्ठ सदस्य लम्बे समय से थे।
शोक की लहर
गौरी डेरी मझगांवा चकिया चंदौली के प्रांगण में शोक सभा का आयोजन किया गया। जिसमें नवल किशोर सिंह, पूर्व प्रधान पारस नाथ सिंह, पूर्व प्रधान अनिल पटेल, संजय कुमार सिंह, राहुल किशोर सिंह, अरविंद कुमार सिंह, चंद्रशेखर सिंह, नीरज सिंह, रामप्यारे सिंह, राजनाथ सिंह आदि उपस्थित थे।
निधन पर राजेश द्विवेदी श्रीकांत द्विवेदी, डॉक्टर मन्नू यादव, ओमप्रकाश मिर्जापुरी, रंगनाथ द्विवेदी, मनोज द्विवेदी, शितेश द्विवेदी, राजेन्द्र चौधरी, उमेश द्विवेदी, बंशीधर चतुर्वेदी, मस्तराम द्विवेदी, जयप्रकाश मिश्रा, ओमप्रकाश दूबे आदि ने भावभीनी श्रद्धांजलि दी है।
88 साल की उम्र में हरी भइया जरूर अनंत की यात्रा पर निकल गए, लेकिन उनकी आवाज सुनाई देती रहेगी। उनके गीत कानों में गूंजते रहेंगे।

Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.