July 24, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

नौ दिन से चल रहा किसानों का धरना, कान में तेल डाल सो रहे अफसर

Sachchi Baten

अहरौरा से अवैध टोल प्लाजा को हटाने की मांग को लेकर आंदोलित है भारतीय किसान यूनियन

-वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग पर वनस्थली महाविद्यालय के पास है यह टोल प्लाजा

राजेश पटेल, अहरौरा/मिर्जापुर (सच्ची बातें)। वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग पर अहरौरा वनस्थली महाविद्यालय के पास बने अवैध टोल प्लाजा के खिलाफ किसान आंदोलन कर रहे हैं। नौ दिन से धरना चल रहा है। जिले के अफसर हैं कि कान में तेल डालकर सो रहे हैं। अभी तक इस समस्या का कोई सर्वमान्य निदान नहीं हो सका है।

भारतीय किसान यूनियन के नेताओं का कहना है कि वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग को फोरलेन बनाने के डीपीआर में सिर्फ फत्तेपुर, राबर्ट्सगंंज और हाथीनाला में टोल प्लाजा बनना था। जो बने भी। सड़क बन जाने के सात साल बाद 2022 में अहरौरा में एक और टोल प्लाजा बना दिया गया।

उस समय जब भारतीय किसान यूनियन के नेतृत्व में किसानों ने विरोध किया तो जवाब दिया गया कि लीकेज को रोकने के लिए ऐसा किया गया है। दरअसल सोनभद्र की ओर से आने वाले कुछ वाहनों ने टोल बचाने के चक्कर में अहरौरा से जमुई होते हुए बनारस की ओर से आना-जाना शुरू कर दिया था।

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश महासचिव प्रह्लाद सिंह ने बताया कि अब पुरुषोत्तमपुर में भी राष्ट्रीय राजमार्ग पर टोल प्लाजा बन गया है। इसलिए लीकेज की समस्या ही खत्म हो गई। अब कोई भी वाहन जमुई की ओर से घूमकर नहीं आता-जाता। ऐसी स्थिति में इस टोल प्लाजा के बने रहने का कोई मतलब नहीं है।

उन्होंने बताया कि पूर्व जिलाधिकारी दिव्या मित्तल ने इस प्लाजा पर मिर्जापुर नंबर के निजी वाहनों से टोल न वसूले जाने का आदेश दिया था, लेकिन उनका उसी समय स्थानांतरण हो गया। टोल मैनेजर ने उनके आदेश को मानने से मना कर दिया। कहा कि उनके पास इस तरह का कोई आदेश नहीं है।

इस समस्या को लेकर भारतीय किसान यूनियन ने जिले की सांसद अनुप्रिया पटेल, इलाके के विधायक रमाशंकर सिंह पटेल, कमिश्नर तथा मौजूदा जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन से भी गुहार लगाई, लेकिन कोई सुनवाई नहीं।

हारकर धरना शुरू किया गया। तीन नवंबर को धरने का नौवां दिन था। इस दौरान एक बार चुनार एसडीएम तथा दो नवंबर को एडीएम वित्त एवं राजस्व  धरना स्थल पर पहुंचे। दोनों अधिकारी सिर्फ आश्वासन से काम चलाना चाहते थे। किसानों ने साफ कहा कि आश्वासन सुनते-सुनते थक चुके हैं। उनका धरना शांति पूर्वक चल रहा है। कानून-व्यवस्था के लिए धरना से कोई दिक्कत नहीं है। जब तक टोल प्लाजा हटेगा नहीं, धरना जारी रहेगा।

लिहाजा किसान बारी-बारी से धरना पर बैठ रहे हैं। धरना स्थल पर टेंट लगा हुआ है। रात में किसान वहीं सो भी रहे हैं। भोजन भी वहीं पर बन रहा है। किसान इंतजार कर रहे हैं कि कब अधिकारियों की नींद खुलती है और इस अवैध टोल प्लाजा को हटाने की कार्रवाई करते हैं।

धरने का नेतृत्व अलग-अलग दिन अलग-अलग नेता कर रहे हैं। इनमें प्रदेश उपाध्यक्ष सिद्धनाथ सिंह, प्रदेश महासचिव प्रहलाद सिंह, जिला अध्यक्ष कंचन सिंह फौजी, जिला महासचिव वीरेंद्र सिंह, अन्नदाता मंच के संयोजक चौधरी रमेश सिंह, मंडल प्रवक्ता राजेश कुमार सिंह उर्फ गुड्डू, मुकुट धारी सिंह, जिला कोषाध्यक्ष स्वामी दयाल सिंह, जिला सचिव विश्वनाथ सिंह, जिला मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र सिंह, प्रधान संघ अध्यक्ष राणा प्रताप सिंह, शारदा प्रसाद मिश्रा जी, लल्लन सिंह दीप नारायण, सभापति सिंह, रामविलास सिंह, आत्मा प्रसाद गुप्ता, परशुराम मौर्य, राजबहादुर सिंह, विजय कुमार सिंह, राजेंद्र प्रसाद, सुमंत विश्वकर्मा, चुल्हन बिंद, मदन सिंह, रणजीत सिंह, जूठन, मल्लूराम, प्रमोद, गौतम सिंह, पुरुषोत्तम, कन्हैया सिंह मौर्य, रामप्यारे, महेंद्र सिंह, संजय सिंह आदि शामिल हैं।

 


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.