July 16, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

लूट का प्राक्कलनः 35.88 किमी सड़क, राशि 11 हजार 398.67 लाख रुपये

Sachchi Baten

भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस-5

लोनिवि निर्माण खंड दो का बड़ा इस्टीमेट स्कैम

-अहरौरा-सक्तेशगढ़-राजगढ़-मड़िहान-लालगंज मार्ग

राजेश पटेल, मिर्जापुर (सच्ची बातें)। लोक निर्माण विभाग निर्माण खंड-2 मिर्जापुर में इस्टीमेट ही इस कदर बनाया जाता कि लूट की गुंजाइश बनी रहे। यहां लागत मूल्य से दोगुना ही नहीं, किसी-किसी कार्य का 10 गुना से भी ज्यादा का इस्टीमेट बना दिया जाता है। राशि स्वीकृत होने के बाद उसमें बंटवारा कर लिया जाता है। पहले इतनी लूट नहीं थी। सरकार के अनिवार्य सेवानिवृत्ति के आदेश पर स्टे लेने में सफल अधिशासी अभियंता देवपाल के कार्यकाल में इसे बहुत ज्यादा बढ़ावा मिला है।

इसे भी पढ़ें…भ्रष्ट आचरण के कारण जिसे दी गई अनिवार्य सेवानिवृत्ति, वह मिर्जापुर में लूट रहा

आज बात अहरौरा-सक्तेशगढ़-राजगढ़-मड़िहान-लालगंज मार्ग की

जिले की सांसद व केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की सोच है कि उनके संसदीय क्षेत्र में आवागमन सुलभ हो। इसी सोच के तहत उन्होंने प्रस्ताव दिया कि अहरौरा से सक्तेशगढ़ होते हुए लालगंज तक सड़क राज्य मार्ग बने। इस मार्ग में सिर्फ अहरौरा से सक्तेशगढ़ तक सड़क बननी है। शेष बनी हुई है।

इसे भी पढ़ें…पैसा ही देवता है मिर्जापुर में पीडब्ल्यूडी के इस अधिशासी अभियंता के लिए

अहरौरा से खम्भवा जमती होते हुए सक्तेशगढ़ की दूरी करीब 36 किलोमीटर है। एकदम सही बोले तो 35.88 किलोमीटर। इसके चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण के लिए नवंबर 2022 में 11 हजार 398.67 लाख रुपये की स्वीकृति मिली है। दो बार में कुल 2849.67 लाख रुपये अवमुक्त भी हुए।

इसे भी पढ़ें...PWD MIRZAPUR : नवीनीकरण की राशि 96 लाख, मुहाने की स्थिति ऐसी

भ्रष्टाचार की इंतिहा ही कहेंगे कि इस मार्ग का टेंडर स्वीकृति हुए बिना और बांड की प्रक्रिया को दरकिनार कर 18 करोड़ रुपये को डायवर्ट कर दिया गया। इसके बाद इसका बंटवारा कर लिया गया। हालांकि इस प्रकरण में एकाउंटेंट ने आपत्ति की थी। लेकिन अधिशासी अभियंता देवपाल के लिए किसी आपत्ति का क्या मतलब।

इसे भी पढ़ें…PWD MIRZAPUR : सड़क निर्माण में गड़बड़ी की विजिलेंस जांच की अनुशंसा

समाजसेवी रामसिंह वागीश ने मुख्यमंत्री को जो शिकायती पत्र भेजा है, उसमें इस प्रकरण का भी उल्लेख है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि इस राजमार्ग संख्या  150 का प्राक्कलन लूट के ही हिसाब से बनाया गया है। उन्होंने मांग की है कि अधिशासी अभियंता देवपाल के वित्तीय अधिकार को तुरंत सीज कर प्रकरण की जांच सरकारी सेवक आचरण नियमावली-7 के तहत कराई जाए। ताकि जिले में लूट पर विराम लग सके।

नोट- मिर्जापुर लोक निर्माण विभाग निर्माण खंड-2 के अधिशासी अभियंता देवपाल जी यदि इन आरोपों के बारे में कोई सफाई देना चाहते हैं तो स्वागत है। वह मेरे मोबाइल नंबर 7909081514 पर ह्वाट्सएप के माध्यम से भेज सकते हैं। उनकी पूरी बात प्रकाशित की जाएगी।

 

 

 

 


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.