July 24, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

भारतीय किसान यूनियनः विद्युत उपकेंद्र घरवाह (जमालपुर) के ट्रांसफार्मर की क्षमता अविलंब बढ़ाई जाए

Sachchi Baten

मंगलवार को उपकेंद्र पर ही किसानों की हुई पंचायत, फिर उसी स्थान पर 4 सितंबर को फिर जुटान का एलान

जिलाधिकारी को भेजा गया ज्ञापन, कहा कि खरीफ की फसल सूखने के कगार पर

जमालपुर, मिर्जापुर (सच्ची बातें)। जमालपुर विद्युत उपकेंद्र पर ट्रांसफार्मर की क्षमता को बढ़वाने के लिए  भारतीय किसान यूनियन भी सक्रिय हो गया है। 29 अगस्त मंगलवार को उपकेंद्र पर किसानों की पंचायत की। चार सितंबर को फिर यहीं पर पंचायत करने का एलान किया गया।

33/11 विद्युत उपकेंद्र घरवाह, जमालपुर पर ओवरलोडिंग की समस्या से इस साल खरीफ की फसल बहुत प्रभावित हुई है। बारिश नहीं के बराबर होने से अहरौरा बांध से जुड़ी नहरों को जरूरत के मुताबिक नहीं चलाया जा सका। यही स्थिति जरगो कमांड की भी है।

किसानों द्वारा दबाव बनाए जाने के फलस्वरूप उपकेंद्र को 24 घंटे बिजली की सप्लाई मिल रही है। इससे कुछ राहत है। हर फीडर को करीब 10-10 घंटे बिजली मिल जा रही है। जब 24 घंटे आपूर्ति नहीं थी तो बमुश्किल 4-5 घंटे बिजली चारो फीडर को मिल पाती थी।

बिजली की बेहिसाब कटौती से न खेत की सिंचाई हो पा रही थी, न बिजली कटने के बाद घरों में पंखे, लाइट चल पा रहे थे। क्योंकि इन्वर्टर की बैट्री चार्ज ही नहीं पा रही थी।

अन्नदाता मंच के तत्वावधान में हाल ही में कुछ किसान उपकेंद्र पर पूरे दिन बैठे रहे। समस्या के निदान की जानकारी अवर अभियंता से ली थी। इसके बाद जमालपुर ब्लॉक मुख्यालय पर किसानों की जुटान हुई। जिसमें बिजली आपूर्ति की स्थिति पर काफी चिंता जताई गई। ब्लॉक मुख्यालय पर हुई जुटान में उपस्थित भारतीय किसान यूनियन के जिला महामंत्री वीरेंद्र सिंह ने घोषणा की कि 29 अगस्त को उपकेंद्र पर किसान पंचायत होगी।

इसी कड़ी में 29 अगस्त को किसान पंचायत हुई। इसमें सैकड़ों की संख्या में किसान उपस्थित हुए। पंचायत की अध्यक्षता सुशील कुमार सिंह ने की और संचालन जिला महासचिव वीरेन्द्र सिंह ने किया।

पंचायत में यूनियन के प्रदेश महासचिव प्रह्लाद सिंह ने कहा कि विकास खंड जमालपुर के विद्युत उपकेंद्र घरवाह का निर्माण वर्ष 2007 में 33 /11 KVA का हुआ है। उस समय के भार के अनुरूप 5 MVA के दो ट्रांसफार्मर लगाए गए हैं, जो कि वर्तमान समय में विद्युत भार के सापेक्ष नाकाफी है, जिससे लो वोल्टेज, बार बार ट्रिप करना, और घरेलू उपभोक्ताओं और किसानों के लिए परेशानी खड़ी हो गई है।

बारिश कम होने की वजह से हजारों बीघे किसानों के धान की फसल निजी बोरिंग से सिंचाई करने के लिए बिजली की नितान्त आवश्यकता हैं। यह नहीं मिल पा रही है।  किसान दिवस में जिलाधिकारी के समक्ष यह मुद्दा उठाया गया तो विद्युत विभाग के अधिकारी ने एक माह में ट्रांसफार्मर लगवाने का वादा किया था, जो कि अभी तक पूरा नहीं किया गया है। प्रदेश उपाध्यक्ष सिद्धनाथ सिंह ने कहा कि सरकार 18 घंटे बिजली देने का वादा कर रही है, परंतु इस उप केंद्र से तीन से चार घंटे ही बिजली मिल रही है।

विद्युत खंड चुनार के एसडीओ ने ज्ञापन लेते हुए कहा कि यहां की समस्या संज्ञान में है और जहां तक बिजली देने की बात है तो 12 घंटे बिजली दी जाएगी। इस पर किसानों ने कहा कि 6 घंटे दिन और 6 घंटे रात में बिजली दी जाए, जिस पर सहमति बनी। भार क्षमता बढ़ाने के संदर्भ में उन्होंने कहा कि यह उनके अधिकार क्षेत्र से बाहर है। इस पर किसानों ने कहा कि सक्षम अधिकारी को बुलाया जाए तो एसडीओ ने अपने से ऊपर अधिकारी से टेलिफोनिक वार्ता कराई तो उन्होंने आश्वासन दिया कि एक महीने के अंदर भार क्षमता को बढ़कर 10 MVA का ट्रांसफार्मर लग जाएगा। सानों ने कहा कि आगामी चार सितंबर को 11 बजे दिन मे पुनः किसान पंचायत घरवाह विद्युत उपकेंद्र पर होगी।

आज के पंचायत में मंडल अध्यक्ष अनिल सिंह, जिला अध्यक्ष कंचन सिंह फौजी,  प्रधान संघ अध्यक्ष राणा प्रताप सिंह, पूर्व प्रधान संघ अध्यक्ष प्रभात सिंह, मंडल कार्यकारिणी सदस्य मुकुटधारी सिंह, राजेश कुमार सिंह उर्फ गुड्डू, परशुराम मौर्या, जिला कोषाध्यक्ष स्वामी दयाल सिंह, जिला उपाध्यक्ष अवधेश, शिवप्रसाद सिंह, जिला सचिव विश्वनाथ सिंह, डॉ. पंचम सिंह, तहसील अध्यक्ष चुनार रामवृक्ष सिंह, ब्लॉक अध्यक्ष जमालपुर रतनलाल चौरसिया, उपाध्यक्ष महेंद्र प्रसाद, गोरखनाथ सिंह, प्रधान बरईपुर आलोक चौरसिया, अवधेश सिंह उर्फ सुधीर, जय गोपाल, संतोष सिंह, जगदंबा सिंह, मोहम्मद अलाउद्दीन, कैलाश नाथ यादव, सेच्चन सिंह, अवधेश सिंह, शिवा सिंह, मनोज, विनोद, अमित, चितरंजन, अशोक सिंह, धर्मेंद्र सिंह व काफी संख्या में किसान उपस्थित रहे।

 


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.