July 23, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

Apna Dal S : वंचित समाज की सभी जातियों को साथ लाने की मुहिम

Sachchi Baten

लोकसभा चुनाव-2024

माली समाज के कार्यक्रम में बुलाया गया अनुप्रिया पटेल को, सुना और सुनाया

-अपना दल एस अध्यक्ष ने संगठित रहने की दी सीख, कहा- राजनैतिक भागीदारी जरूरी

बनारस (सच्ची बातें)। अभी ज्यादा दिन नहीं हुए। अपना दल एस की अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल ने आजम खां के गढ़ रामपुर से पूरे प्रदेश के मुसलमानों को एक संदेश दिया था। पार्टी की नजर अब छोटी-छोटी आबादी वाली जातियों पर भी है। रविवार को बनारस में अखिल भारतीय श्रीमाली समाज के कार्यक्रम में अपना दल अध्यक्ष केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल को बुलाया गया। उनको सम्मानित किया गया। उनसे कहा गया। उनकी सुनी गई।

बात यहीं पर समाप्त नहीं होती। आगे भी यह सिलसिला जारी रहेगा। मतलब वंचित समाज की हर जातियों तक जाना। तभी तो जमात बनेगी। दरअसल अपना दल एस की राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद अनुप्रिया पटेल ने जिस तरीके से संगठन को चलाया, वह नित नई सफलता की ओर ही है।

एनडीए में शामिल होने के बावजूद स्वार (रामपुर) सीट के लिए हुए उपचुनाव में मुसलमान को टिकट दिया और जीत भी हासिल की। वह अपने कार्यों और वक्तव्यों से यह जाहिर करती हैं कि उनकी पार्टी गठबंधन में है। किसी दल में विलय नहीं हुआ है। हमारे लिए हमारी पार्टी की विचारधारा सर्वोपरि है। हम अपनी बात कहेंगे। कह कर रहेंगे। आपको सुनना तो पड़ेगा ही।

 

अनुप्रिया पटेल ने मुसलमान समाज के बीच अपनी बात रख कर इस कार्य को बंद नहीं किया। अन्य समाज के बीच भी जाकर सामाजिक न्याय की लड़ाई में साथ देने की अपील कर रही हैं। इस कड़ी में रविवार को बनारस के दानूपुर रिंग रोड पर चांदमारी के पास श्रीमाली समाज ने सामाजिक कार्यक्रम आयोजित किया था।

संगठन के पदाधिकारियों ने काफी मंथन करने के बाद अनुप्रिया पटेल को बुलाने का निर्णय लिया। इसका कारण बताया गया कि माली समाज अपने मूल पेशे से बाहर नहीं निकल सका है। राजनैतिक भागीदारी न के बराबर है। राजनैतिक भागीदारी के लिए कोई नेतृत्व चाहिए। अनुप्रिया पटेल में उनको उम्मीद नजर आई। सो, बुला लिया। उनसे अपनी सामाजिक व राजनैतिक स्थिति पर चर्चा की। अनुप्रिया पटेल माली समाज को भरोसा दिलाने में कामयाब हो गईं कि उनके मान-सम्मान के लिए वे हमेशा खड़ी रहेंगी।

बनारस में आयोजित श्रीमाली समाज के कार्यक्रम में उन्होंने सामाजिक न्याय की विचारधारा के लिए साथ मांगा। कहा कि माली समाज की राजनीति में भागीदारी न के बराबर है। इसे बढ़ाने के लिए सबसे पहली शर्त है संगठन। आप सभी संगठित हो जाओ, समाज की इज्जत बढ़ जाएगी।

इसके बाद कुछ अन्य कम आबादी वाली जातियों को भी जोड़ने की योजना पर काम चल रहा है। दरअसल अपना दल एस काफी सधे कदमों से चलते हुए अपने लक्ष्य की ओर आगे बढ़ रहा है। संस्थापक डॉ. सोनेलाल पटेल ने मंत्र दिया है-सत्ता ही सब समस्याओं की कुंजी है। इसके लिए जमात बनानी होगी। इसी कोशिश में अपना दल एस है। मूल मतदाता कुर्मी तो हैं ही। मुसलमान तेजी से जुड़ रहे हैं। इसके बाद वंचित समाज की अन्य छोटी-छोटी संख्या वाली जातियां साथ आ जाएं तो देश व प्रदेश में संख्या बल के आधार पर राजनीति को प्रभावित करने की क्षमता बढ़ जाएगी।

विरोध करना ही है तो करने में कोई बुराई नहीं है। लेकिन  समझना होगा कि यदि सामने वाला नहीं सुनेगा तो गुस्सा होने से भी कोई फायदा नहीं है। उल्टे अपने ही पैर पर कुल्हाड़ी मारने जैसा होगा। क्योंकि लोकतंत्र में जो संख्या बल चाहिए, वह नहीं है। मात्र दो। क्या कर लेंगे आप पूर्ण बहुमत वाली सरकार का। जितना हो सके, उतना प्रयास करके वंचित समाज के एक-एक मुद्दे का निस्तारण कराना उचित प्रतीत होता है। क्योंकि सुनाने के लिए भी किसी सदन का सदस्य होना जरूरी है।

श्रीमाली सैनी समाज के राष्ट्रीय संयोजक पप्पू माली ने कहा कि अखिल भारतीय श्रीमाली महासभा द्वारा आयोजित स्वजाति माली समाज के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में अपना दल एस पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल ने माली समाज को संगठित रहने के गुर बताए। उन्होंने कहा कि बना संगठन के पहचान नहीं बनेगी। उपजातियों में बंटे रहने से कोई फायदा नहीं होगा। सभी एक हो जाओ। पप्पू माली ने इसके लिए श्रीमती पटेल के प्रति आभार जताया है।

इस कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर विधायक डॉ. आरके पटेल, डॉ. सुनील पटेल, अपना दल एस के वाराणसी जिला अध्यक्ष डॉ. नरेंद्र पटेल, जिला अध्यक्ष जौनपुर मछली शहर लाल बहादुर पटेल व शिवनायक पटेल सहित माली समाज के लोगों से सभागार खचाखच भरा था।


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.