July 20, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

अनुप्रिया पटेल ने खींच दिया विकसित भारत का खाका

Sachchi Baten

दैनिक जागरण विमर्श-2024

अनुप्रिया पटेल ने कहा, भारत के विकास पथ में सबसे आगे है उत्तर प्रदेश, अन्य राज्यों के लिए बन रहा मॉडल

दैनिक जागरण ने “उत्तर प्रदेश विकास का ग्रोथ इंजन” विषयक विमर्श का किया आयोजन

मिर्जापुर (सच्ची बातें)। “उत्तर प्रदेश अब भारत के विकास पथ में सबसे आगे है और अन्य राज्यों के लिए एक मॉडल स्थापित कर रहा है। आज हमारा प्रदेश सामाजिक – सांस्कृतिक, आर्थिक एवं आध्यात्मिक क्षेत्रों में निरंतर प्रगति कर रहा है।” केंद्रीय मंत्री एवं जनपद की सांसद अनुप्रिया पटेल ने शुक्रवार को जनपद के मिलन पैलेस में एक राष्ट्रीय समाचार पत्र दैनिक जागरण द्वारा “उत्तर प्रदेश विकास का ग्रोथ इंजन” विषय पर आयोजित कार्यक्रम में यह विचार व्यक्त किया।

केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल का स्वागत करते दैनिक जागरण वाराणसी के संपादकीय प्रभारी भारतीय बसंत कुमार।

 

श्रीमती पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में हमारा देश भारत 2030 तक 7 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य के साथ विकसित भारत @2047 के निर्माण की ओर अग्रसर है। आज उत्तर प्रदेश आर्थिक- सामाजिक विकास के हर क्षेत्र में नई ऊचाईयों को प्राप्त कर रहा है। सरकार की नीतियां विशेष रूूप से युवा, महिला, किसान व गरीबों के उत्थान के लिए समर्पित हैं। राज्य में तेजी से औद्योगिक विकास हो रहा है। बुनियादी ढांचे और कनेक्टिविटी के विस्तार से आम नागरिकों का जीवन आसान हो गया है, जिससे रोजमर्रा की जिंदगी अधिक सुविधाजनक हो गई है।

मंच पर केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल को पुष्पगुच्छ देकर स्वागत करते दैनिक जागरण वाराणसी के संपादकीय प्रभारी भारतीय बसंत कुमार।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2024 के चौथे ग्राउंड ब्रेकिंग समारोह में उत्तर प्रदेश में 10 लाख करोड़ रुपये से अधिक की 14 हजार परियोजनाओं का शुभारम्भ किया है। ये परियोजनाएं विनिर्माण, नवीकरणीय ऊर्जा, आईटी और आईटीईएस, खाद्य प्रसंस्करण, आवास और रियल एस्टेट, आतिथ्य और मनोरंजन, और शिक्षा जैसे क्षेत्रों से संबंधित हैं। इससे प्रदेश की अवसंरचना में सुधार होने के साथ-साथ निवेश को भी बढ़ावा मिलेगा।

अनुप्रिया पटेल ने कहा कि पूर्वांचल, उत्तर प्रदेश का पूर्वी छोर-आज़मगढ़, बस्ती, चित्रकूट, गोंडा, गोरखपुर, मिर्जापुर, प्रयागराज, वाराणसी, लखनऊ,अयोध्या और रायबरेली सहित पूरा अवध क्षेत्र यहां की समृद्धशाली संस्कृति, विशिष्ट रहन सहन, विविध खान पान और पारंपरिक रीति रिवाजों के कारण विश्वविख्यात है। पूर्वांचल भारत के सबसे प्राचीनतम क्षेत्रों में से एक है। श्री राम की जन्म स्थली अयोध्या नगरी, विंध्याचल देवी शक्तिपीठ, हाजी की दरगाह के अतिरिक्त चुनार किला, काली खोह  का मंदिर, विंढम फॉल जैसे स्थलों के कारण इसकी ख्याति दूर-दूर तक फैली हुई है। हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म और जैन धर्म की उत्पत्ति भी पूर्वांचल की पावन धरती से हुई है। महात्मा बुद्ध को भी इसी अलौकिक भूमि पर निर्वाण प्राप्त हुआ था। बनारस की साड़ी, मिर्ज़ापुर भदोही के कालीन और निजामाबाद के मिट्टी के बर्तन भारत के बेहतरीन कलात्मक उत्पाद हैं।

श्रीमती पटेल ने कहा कि उत्तर प्रदेश देश-का ग्रोथ इंजन बन कर उभरा है। पिछले सात वर्षों में यूपी के सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) में दोगनी वृद्धि हुई  है। उत्तर प्रदेश की प्रति व्यक्ति आय को दोगुना करने में भी सफलता हासिल हुई है। उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था दूसरे स्थान पर पहुंच गई है। देश की जीडीपी में प्रदेश की हिस्सेदारी बढ़ी है। आज उत्तर प्रदेश का जीडीपी भारत की अर्थव्यवस्था में 9.2 प्रतिशत का योगदान दे रहा है। उत्तर प्रदेश अब डिजिटल लेनदेन में सबसे आगे है, इस वर्ष यह संख्या 1174 करोड़ 32 लाख तक पहुंच गई है। यहां आधे से अधिक लेनदेन यूपीआई के माध्यम से किए जाते हैं, जो राज्य के तेजी से डिजिटलीकरण को रेखांकित करता है ।

प्रदेश में चिकित्सा सुविधाओं का विस्तार हुआ है। प्रदेश में एक जनपद एक मेडिकल कॉलेज योजना के तहत 66 मेडिकल कॉलेज स्थापित किए गए हैं ।

प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के अन्तर्गत वर्ष 2016 में मात्र 1.40 लाख आवास स्वीकृत किये गये थे, जबकि हमारी सरकार द्वारा अब तक 36 लाख 15 हजार आवास स्वीकृत किये गये हैं, जिनमें से 34 लाख 14 हजार आवास पूर्ण किये जा चुके हैं और शेष निर्माणाधीन हैं। मुख्यमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 2 लाख से अधिक आवास निर्मित किए जा चुके हैं ।

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अन्तर्गत वर्ष 2023-2024 में 56 लाख से अधिक लाभार्थियों को निःशुल्क गैस सिलिन्डर वितरित किये गये हैं।
अनुसूचित जनजातियों के आर्थिक विकास हेतु विभिन्न प्रकार के कौशल विकास कार्यक्रम जनपद लखीमपुर- खीरी, बलरामपुर बिजनौर एवं बहराइच / श्रावस्ती तथा महराजगंज में संचालित हैं।

निर्माण श्रमिकों के बच्चों को निःशुल्क गुणवत्तापूर्ण एवं उद्देश्यपरक शिक्षा उपलब्ध कराने की दृष्टि से प्रत्येक मण्डल में एक अटल आवासीय विद्यालय स्थापित किये जा रहे हैं, जिसकी कुल निर्माण लागत 1267 करोड़ रुपये है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अन्तर्गत दिसम्बर, 2023 तक लगभग 63,000 करोड़ रुपये की धनराशि डीबीटी के माध्यम से 2 करोड़ 62 लाख कृषकों के खातों में हस्तान्तरित की गयी।

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के अन्तर्गत पात्र बालिकाओं को 6 विभिन्न श्रेणियों में कुल 15000 रुपये की सहायता प्रदान की जा रही है।
श्रीमती पटेल ने कहा कि हाल में जो विकसित भारत संकल्प यात्रा हुई है, इसमें भी यूपी के लाखों लाभार्थियों को उनके घर के पास ही योजनाओं से जोड़ा गया है। उत्तर प्रदेश सरकार केंद्र सरकार की सभी योजनाओं का सफल कार्यान्वयन सुनिश्चित करने के लिए अधिकाधिक लाभार्थियों को लाभ पहुंचाने हेतु समर्पित है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री जनधन योजना, पीएम स्वनिधि प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (PMSBY), प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, प्रधानमंत्री अटल पेंशन योजना, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना आदि योजनाओं का लाभ लाभार्थियों तक पहुंचाने में उत्तर प्रदेश भारत में प्रथम स्थान पर है।

यूपी के करीब-करीब हर जिले में कुटीर उद्योगों की एक पुरानी परंपरा है। इस परंपरा को One District, One Product – एक जिला, एक उत्पाद योजना से सशक्त किया जा रहा है। 13 हजार करोड़ रुपये की पीएम विश्वकर्मा योजना का शुभारम्भ किया गया है। ये योजना यूपी में परंपरागत रूप से हस्तशिल्प से जुड़े लाखों विश्वकर्मा परिवारों को आधुनिकता से जोड़ेगी। उन्हें अपना कारोबार बढ़ाने के लिए बैंकों से सस्ता और बिना गारंटी का ऋण दिलाने में मदद करेगी।

यूपी में भारत का सबसे बड़ा पर्यटन केंद्र बनने की क्षमता है। इससे यूपी में छोटे उद्यमियों, एयरलाइन कंपनियों और होटल-रेस्तरां मालिकों के लिए अभूतपूर्व अवसर पैदा हो रहे हैं। यूपी की बेहतर स्थानीय, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय कनेक्टिविटी में सुधार हुआ है। यहां पर्यटन और आतिथ्य क्षेत्र में बड़ी संख्या में रोज़गार उत्पन्न होंगे।

जनपद मिर्जापुर में विन्ध्याचल स्थित त्रिकोणीय क्षेत्र में माँ विन्ध्यवासिनी मंदिर, माँ अष्टभुजा मंदिर, माँ कालीखोह मंदिर को जोड़ने वाले त्रिकोण संरेखण में आने वाले परिक्रमा मार्गों एवं जन सुविधाओं के उन्नयन हेतु कार्यवाही प्रक्रियाधीन है।

अयोध्या, वाराणसी, चित्रकूट, लखनऊ, विन्ध्याचल, प्रयागराज, नैमिषारण्य, गोरखपुर, मथुरा, बटेश्वर धाम, गढ़मुक्तेश्वर, शुकतीर्थ धाम, माँ शाकुम्भरी देवी, सारनाथ एवं अन्य महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों का पर्यटन विकास एवं सौन्दर्यीकरण कार्य कराये जा रहे हैं।

अनुप्रिया पटेल ने कहा कि मिर्ज़ापुर में विकास कार्य स्थानीय निर्यातकों, आयातकों और व्यापारियों की व्यवसायिक आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु चुनार, मीरजापुर में एक ‘लॉजिस्टिक्स पार्क’, जो पूरे पूर्वी उत्तर प्रदेश और आसपास के क्षेत्रों की व्यावसायिक जरूरतों को भी पूरा कर सकेगा। रोजगार सृजन में महत्वपूर्ण वृद्धि के अलावा, ‘लॉजिस्टिक्स पार्क’ रेल माल ढुलाई को बढ़ावा देने और लॉजिस्टिक्स लागत और पारगमन समय को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है जिससे स्थानीय कालीन और हस्तशिल्प उद्योग को भी बढ़ावा मिलेगा।
केंद्रीय मंत्री श्रीमती अनुप्रिया पटेल ने कहा कि चुनार मिर्ज़ापुर में दिनांक 6 सितंबर, 2022 को 28.59 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से तैयार होने वाले ‘सरदार वल्लभभाई पटेल निर्यात सुविधा केंद्र’ की आधारशिला रखी गई। चुनार, मीरजापुर स्थित सरदार वल्लभ भाई पटेल निर्यात सुविधा केंद्र में सामान्य बुनियादी सुविधाओं की अवस्थापना सहित एक प्रशासनिक भवन, प्रशिक्षण सुविधा, पैक हाउस और एक बहुउद्देशीय हॉल शामिल होगा।

मिर्जापुर में इंडियन ऑयल टर्मिनल की स्थापना एक अति महत्वपूर्ण पहल है। जनपद में इंडियन ऑयल के 1076 करोड़ रुपये की लागत से ग्रास रूट टर्मिनल की स्थापना की जा रही है, जो इंडियन ऑयल की सबसे महत्वाकांक्षी तेल टर्मिनल परियोजनाओं में से एक है । यह उत्तर प्रदेश के 15 जिलों की ईंधन आपूर्ति आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम होगा ।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा घोषित ‘नई विदेश व्यापार नीति’ 2023 के तहत मिर्जापुर जिले को ‘निर्यात उत्कृष्टता शहर’ घोषित किया गया है । इनमें फरीदाबाद (परिधान), मुरादाबाद (हस्तशिल्प) और वाराणसी (हथकरघा और हस्तशिल्प) भी शामिल हैं । मिर्जापुर को हस्तनिर्मित कालीन और दरी के लिए ‘निर्यात उत्कृष्टता शहर’ घोषित किया गया है। मिर्जापुर को ‘निर्यात उत्कृष्टता शहर’ घोषित करने से न केवल देश के भीतर बल्कि अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में भी मिर्जापुर के उत्पादों की पहुंच का विस्तार करने के साथ-साथ इस क्षेत्र से हस्तनिर्मित कालीनों और दरियों के निर्यात को और तेजी से बढ़ावा मिलेगा।

सड़क व परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी द्वारा मिर्जापुर में गंगा नदी पर विंध्य धाम के पास 1750 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले 6 लेन पुल एवं बाईपास का निर्माण मिर्जापुर जनपद में गंगा नदी पर दुद्धी-लुंबिनी मार्ग पर शिलान्यास किया गया है । इसके साथ ही, 59 किलोमीटर कुल लंबाई के मिर्जापुर से प्रयागराज एवं प्रयागराज से प्रतापगढ़ तक राष्ट्रीय राजमार्ग-330 एवं 35 के रखरखाव का कार्य किया जाएगा। इससे जनपद के औद्योगिक एवं आर्थिक विकास को गति मिलेगी।

कार्यक्रम के दौरान दैनिक जागरण वाराणसी के संपादकीय प्रभारी भारतीय बसंत कुमार, लोकप्रिय कजली गायक एवं पद्मश्री उर्मिला श्रीवास्तव, तीर्थ पुरोहित पंडित समाज मिट्ठू मिश्रा, महामंत्री काशी विद्युत परिषद प्रोफेसर रामनारायन द्विवेदी, पूर्व कुलपति श्रीमती रतन कला पांडे, अपना दल एस जिला अध्यक्ष इंजीनियर राम लौटन बिंद, कांग्रेस जिला अध्यक्ष भगवती चौधरी, अपना दल एस के जिला मीडिया प्रभारी शंकर सिंह चौहान, अपना दल एस प्रदेश सचिन रामवृक्ष बिंद, भाजपा जिला अध्यक्ष पिछड़ा मोर्चा रामकुमार विश्वकर्मा, जिला अध्यक्ष आईटी मंच हेमंत कुमार बिंद, जिला उपाध्यक्ष राजकुमार पटेल, विधानसभा अध्यक्ष विजय शंकर केसरी, जोन अध्यक्ष रतन जायसवाल, अर्चना अग्रहरि, दुर्गा प्रसाद केसरवानी, प्रशांत शुक्ला, राहुल ओझा आदि अनेक पदाधिकारी उपस्थित रहे।


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.