July 23, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

पाप को पर्दा के पीछे करने का पुरजोर प्रयास, कृपया जरूर पढ़ें…

Sachchi Baten

सच्ची बातें पोर्टल पर प्रकाशित खबरों का असर, सड़कों के घावों पर मरहम-पट्टी शुरू

-रानीबाग-जलालपुर मार्ग वाया जैपट्टी-जमालपुर तथा कैलहट-अदलहाट मार्ग वाया ममोलापुर पर काम लगा

-प्राविधिक शिक्षा मंत्री आशीष पटेल ने विजिलेंस जांच के लिए पीडब्ल्यूडी मंत्री को लिखा है पत्र

राजेश पटेल, मिर्जापुर (सच्ची बातें)। कौन कहता है कि खबरें खलबली नहीं मचातीं। मचाती हैं, जब उनको निष्कर्ष तक चलाया जाए। जब खबर किसी निष्कर्ष तक पहुंचती है तो अवाम को राहत देती है। सच्ची बातें पोर्टल पर मिर्जापुर में लोक निर्माण विभाग निर्माण खंड-2 में व्याप्त लूट की खबरें सिलसिलेवार प्रकाशित हुईं तो अधूरी सड़कों का निर्माण शुरू हो गया।

देखें खबर...PWD MIRZAPUR : नवीनीकरण की राशि 96 लाख, मुहाने की स्थिति ऐसी

उपरोक्त लिंक में कैलहट-अदलहाट वाया ममोलापुर सड़क की हकीकत बताई गई है। अब जांच के डर से कैलहट से रामपुर वाले रास्ते की शुरुआत तथा ममोलापुर में गड्ढों को भरने का काम शुरू हो चुका है।

                               कैलहट के इस स्थान की तस्वीर इतने से ही बदल गई

 

अदलहाट की तरफ से भी हेड प्वाइंट तथा घुरहूपुर गांव के पहले नहर के पास सड़क काफी खराब हो गई है। इस सड़क में लूट की कहानी कितनी लंबी है, उपरोक्त लिंक को खोलकर पढ़ लें। दोहराव उचित नहीं है। इस खबर में सड़क की स्थिति भी दिखेगी। समझ में नहीं आएगा कि सड़क बदहाल है या उसके कारण अगल-बगल रहने वाले लोगों और आने-जाने वालों का मुकद्दर फूट गया है।

इसी तरह से रानीबाग-जलालपुर मार्ग वाया जैपट्टी-जमालपुर की स्थिति जैपट्टी गांव में जो थी, उसे आने-जाने वाले ही समझ सकते हैं। इस पर भी काम लग चुका है। जैपट्टी गांव में गड्ढों को पाटा जा रहा है। जहां चौड़ीकरण नहीं हो सका था, वहां किया जा रहा है। जेसीबी व हाइवा के साथ मेठ-मजदूर लगे हैं। यहां भी सड़क सड़क किनारे रह रहे लोग अपनी बदनसीबी पर रो रहे थे। इस पार से उस पार जाना मुश्किल था।

                   जैपट्टी में सड़क निर्माण शुरू

 

इस मार्ग पर पेड़ों तथा बिजली के खंभों को अभी तक हटाया नहीं जा सका है। सड़क बनने के बाद इनको हटाया जाएगा तो उन स्थानों पर कैसे पेंटिंग होगी। लोक निर्माण विभाग का कहना है कि इसके लिए दोनों विभागों को आवश्यक भुगतान किया जा चुका है।

                                                     ममोलापुर में गड्ढे पाटे जा रहे

 

इस मार्ग के निर्माण में हुई गड़बड़ी की विजिलेंस जांच के लिए प्रदेश के प्राविधिक शिक्षा, बाट-माप तथा उपभोक्ता संरक्षण मंत्री आशीष पटेल ने लोक निर्माण विभाग के मंत्री जितिन प्रसाद को पत्र लिखकर विजिलेंस जांच कराने की अनुशंसा की थी। इस पत्र का क्या हुआ, यह सार्वजनिक नहीं हुआ।

देखिए इस खबर को...PWD MIRZAPUR : सड़क निर्माण में गड़बड़ी की विजिलेंस जांच की अनुशंसा

बता दें कि लोक निर्माण विभाग निर्माण खंड-2 मिर्जापुर के अधिशासी अभियंता देवपाल जल्द ही सेवानिवृत्त होने वाले हैं। इनके कृत्यों की समीक्षा करने के बाद सरकार ने तो इनको जबरिया सेवानिवृत्त कर ही दिया था, लेकिन हाईकोर्ट ने सरकार के इस आदेश को स्थगित कर दिया।

पता चला है कि इसमें भी बड़ा खेल है। पीडब्ल्यूडी मुख्यालय में जिसकी पहुंच हो, वह सिकंदर। सरकार ने सोच समझ कर ही अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी थी। इसमें कहां कमी रह गई। इस कमी के लिए जिम्मेदार तो मुख्यालय में बैठे लोगों में कोई होगा या होंगे। इसका जीता-जागता सबूत ये अधिशासी अभियंता हैं। मुख्यालय में ही सेटिंग के कारण मिर्जापुर में ही इनको कार्यकारी डिवीजन दिया गया।

इसे भी पढ़ें...PWD MIRZAPUR : अंधेरपुर नगरी… सड़क बनी नहीं, पैसा गया कहां ?

समाजसेवी राम सिंह वागीश कहते हैं कि यदि सरकार के आदेश को हाईकोर्ट ने स्टे दिया तो भी देवपाल की तैनाती मिर्जापुर में ही क्यों। सरकार ने जब इनके खिलाफ यह कार्रवाई की तो ये मिर्जापुर में ही थे। इनको मुख्यालय से अटैच किया जा सकता था।

वागीश ने कहा कि शिकायत और खबर से डरे लोक निर्माण विभाग के अभियंता जल्दी से पाप पर पर्दा डालने की कोशिश में जुटे हैं। लेकिन, इसमें उनको सफलता नहीं मिलने वाली है। सड़क निर्माण में लूट की जांच जरूरी है। जरूरत पड़ने पर हाईकोर्ट की शरण ली जाएगी।

सच्ची बातेंं डॉट कॉम की कोशिश रहती है कि सरकारी योजनाओं में लूट को रोका जा सके। इसके लिए मुनादी जारी है। इस मुनादी से राहत मिलेगी।


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.