July 20, 2024 |

BREAKING NEWS

- Advertisement -

 क्या है गृहमंत्री अमित शाह और पूर्व राज्यपाल तमिलिसाई के वीडियो में?

Sachchi Baten

शाह की डांट की वीडियो से तमिलनाडु भाजपा में घमासान

-आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू के शपथ ग्रहण समारोह का यह वीडियो चर्चा में

नई दिल्ली। गृहमंत्री अमित शाह और पूर्व राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन का एक वीडियो इस समय चर्चा में है। चर्चा कारण अमित शाह का तमिलिसाई सुंदरराजन को सख्त अंदाज में फटकार लगाना है। और शाह का यह कड़क अंदाज वीडियो में कैद हो गया है। तमिलिसाई सुंदरराजन तमिलनाडु भाजपा की पूर्व अध्यक्ष और तेलंगाना की पूर्व राज्यपाल हैं। लोकसभा चुनाव के समय ही उन्होंने राज्यपाल पद से इस्तीफा देकर चेन्नई दक्षिण लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था। तमिलिसाई सुंदरराजन से कड़े अंदाज में बात करने के मुद्दे पर विवाद बढ़ता जा रहा है। तमिलनाडु  की राजनीतिक पार्टियों ने इस मुद्दे पर बयान देकर आपत्ति दर्ज कराई है।

दरअसल आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू के शपथ ग्रहण समारोह में तमिलिसाई बीजेपी के सीनियर नेताओं को हाथ जोड़कर नमस्ते कहते हुए आगे बढ़ती हैं, तभी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह वापस बुलाते हैं और फिर तमिलिसाई को सख्त लहजे में कुछ कहते है। कहा जा रहा है कि शाह ने तमिलनाडु भाजपा के अध्यक्ष अन्नामलाई के खिलाफ अनाश-शनाप टिप्पणी करने के लिए तमिलिसाई को फटकार लगाई है।

लोकसभा चुनावों में बीजेपी के लिए दक्षिण में नए पोस्टर ब्वॉय बनकर उभरे के अन्नामलाई की तारीफ खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एनडीए संसदीय दल की बैठक में की थी। तमिलनाडु बीजेपी के अध्यक्ष अन्नामलाई से तमिलिसाई सुंदरराजन का 36 का आंकड़ा है। लेकिन कुछ समय पहले तक तमिलिसाई सुंदरराजन ही तमिलनाडु में बीजेपी का चेहरा थीं।

तमिलिसाई सुंदरराजन को सार्वजनिक रूप से “फटकार”  या “चेतावनी” पर तमिलनाडु बीजेपी में दो फाड़ दिखाई दे रहा है। तमिलनाडु में भाजपा नेताओं के एक वर्ग ने पूर्व राज्य प्रमुख और तेलंगाना के पूर्व राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन पर उनके और गृह मंत्री अमित शाह के बीच बातचीत के एक वीडियो को लेकर निशाना साधा है। जबकि कुछ नेताओं ने तमिलिसाई पर टिपिपणी की हैय़

दरअसल, लोकसभा चुनाव परिणाम आने के बाद से तमिलिसाई सुंदरराजन और के. अन्नामलाई में मतभेद खुलकर सामने आने लगा है। इससे कुछ दिन पहले तमिलिसाई ने एक यूट्यूब चैनल से बात करते हुए कहा था कि अगर एआईएडीएमके के साथ उसका गठबंधन बरकरार रहता तो पार्टी बेहतर प्रदर्शन कर सकती थी। जबकि यह विचार वर्तमान राज्य प्रमुख के अन्नामलाई के दृष्टिकोण से भिन्न है।

बुधवार को, कई भाजपा हैंडलों ने आंध्र प्रदेश के सीएम के रूप में चंद्रबाबू नायडू के शपथ ग्रहण समारोह में मंच पर शाह और तमिलिसाई के बीच बातचीत का एक वीडियो साझा किया।

भाजपा के सोशल मीडिया सेल के राज्य उपाध्यक्ष कार्तिक गोपीनाथ ने इसे कैप्शन के साथ साझा किया: “यह अमित शाह जी की ओर से तमिलिसाई अक्का को दी गई कड़ी चेतावनी जैसा लगता है। लेकिन इस ‘सार्वजनिक’ चेतावनी का कारण क्या हो सकता है?”

यहां तक ​​कि द्रमुक ने भी इस पर आपत्ति जताई है। द्रमुक प्रवक्ता सरवनन अन्नादुरई ने ऑनलाइन पोस्ट किया: “यह किस तरह की राजनीति है? क्या तमिलनाडु की एक वरिष्ठ महिला नेता को मंच पर लाना और धमकी भरी शारीरिक भाषा के साथ कठोर शब्दों का प्रदर्शन करना सभ्य है? क्या अमित शाह इस बात से अनजान हैं कि इस पर सबकी नजर रहेगी? यह एक बहुत ही गलत मिसाल कायम करता है।”

कहा जा रहा है कि तमिलिसाई चुनाव के समय से ही तमिलनाडु बीजेपी अध्यक्ष अन्नामलाई पर कड़े बयान दे रही थीं। कुछ दिन पहले एक यूट्यूब चैनल से बात करते हुए तमिलिसाई ने कहा था, “मैं पार्टी में असामाजिक तत्वों को हतोत्साहित और नजरअंदाज करती थी। लेकिन हाल ही में ऐसे कई तत्व पार्टी में आ गए हैं और कुछ जिलों में पदों पर काबिज हो गए हैं। ऐसी प्रथाओं को रोका जाना चाहिए, और सामान्य कैडर जो पार्टी के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं, उन्हें उनका उचित स्थान मिलना चाहिए। इसका मतलब यह नहीं है कि मुझे लगता है कि वह (अन्नामलाई) एक बुरे नेता हैं। बिल्कुल नहीं, अलग-अलग नेता अलग-अलग तरीके से फैसले लेते हैं।”

गठबंधन के मुद्दे पर उन्होंने कहा था, “हमें वोट शेयर में बढ़ोतरी पर गर्व है, हमारे उम्मीदवारों ने एआईएडीएमके को 12 सीटों पर तीसरे स्थान पर धकेल दिया और कई सीटों पर उनकी जमानत जब्त हो गई। लेकिन इन सभी आंकड़ों पर मतदान के बाद कुछ दिनों तक ही चर्चा होगी। जीतना महत्वपूर्ण है। चुनाव जीते बिना हम अगले कदम पर नहीं पहुंच सकते। अगर हम चुनाव जीतते हैं, तो ही हम उनके लिए पांच साल तक काम कर सकते हैं… इसलिए जन प्रतिनिधि होना बहुत महत्वपूर्ण है। अच्छे गठबंधन की मदद से इसे बनाने में कुछ भी गलत नहीं है।”

उनकी टिप्पणी का वीडियो पोस्ट करते हुए, भाजपा के ओबीसी मोर्चा के राज्य महासचिव तिरुचि सूर्या ने पूछा कि “क्या पार्टी के पूर्व प्रमुख के लिए मीडिया में इस तरह की टिप्पणी करना सही है। अन्नामलाई से निकटता के लिए जाने जाने वाले सूर्या ने यह भी कहा कि जब तमिलिसाई पार्टी का नेतृत्व कर रही थी तो लोग बीजेपी में शामिल होने के लिए तैयार नहीं थे।”

तिरुचि सूर्या ने तमिलिसाई सुंजरराजन पर आरोप लगाते हुए कहा कि “यदि आप चाहें तो मैं आपराधिक पृष्ठभूमि वाले लोगों की एक सूची दूंगा जो एल मुरुगन (तमिलनाडु के पूर्व राज्य प्रमुख, केंद्रीय मंत्री) की अवधि के दौरान भाजपा में शामिल किए गए थे, जिन्हें आपकी सिफारिश पर राज्य अध्यक्ष बनाया गया था। यह स्पष्ट है कि आप पार्टी के आधार में वृद्धि और एक ही नेता (अन्नामलाई) की ओर ध्यान जाता देखकर असुरक्षित हैं। अगर एआईएडीएमके गठबंधन होता, तो वह अधिक सीटें जीतती – क्या यह आपकी राय है, और क्या यह पार्टी के फैसले के खिलाफ नहीं है?”

वीडियो वायरल होने के बाद केरल कांग्रेस ने  भाजपा की संस्कृति और महिलाओं के प्रति दृष्टिकोण पर निशाना साधते हुए एक्स पर पोस्ट किया कि “ कोई भी व्यक्ति जिसमें थोड़ा भी स्वाभिमान है, वह पद छोड़ देगा, तमिलिसाई सुंदरराजन एक योग्य डॉक्टर और पूर्व राज्यपाल होने के नाते, आपको ऐसा अपमान नहीं सहना पड़ेगा, वह भी एक हिस्ट्रीशीटर से!”

चुनाव नतीजों के एक दिन बाद, अन्नामलाई और अन्नाद्रमुक नेतृत्व के बीच तीखी नोकझोंक हुई। भाजपा नेता ने कहा कि उनकी पार्टी एक दर्जन सीटों पर दूसरे स्थान पर आई है और अन्नाद्रमुक को तीसरे स्थान पर धकेलना ही एक जीत है। जवाब में, आरबी उदयकुमार और एसपी वेलुमणि सहित अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ मंत्री, दोनों को हार का सामना करना पड़ा, उन्होंने अपने खराब प्रदर्शन के लिए अन्नामलाई को दोषी ठहराया। जबकि उदयकुमार ने कहा कि अन्नाद्रमुक-भाजपा गठबंधन उन्हें कम से कम 30 सीटें जीत सकता था, वेलुमणि ने विभाजन के लिए सीधे तौर पर अन्नामलाई को जिम्मेदार ठहराया।

(जनचौक की रिपोर्ट)


Sachchi Baten

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.